728 x 90

असद वारसी – देश के सबसे नामी वेस्ट मैनेजमेंट गुरु | #asadwarsi #wastemanagement

असद वारसी – देश के सबसे नामी वेस्ट मैनेजमेंट गुरु | #asadwarsi #wastemanagement

 वे अब तक ३०० से अधिक निकायों , शहरों और निगमों की वेस्ट मैनेजमेंट प्लान बना चुके हैं, | इंदौर के बाद अब दुनिया के सबसे गंदे शहर दिल्ली, हैदराबाद और चंडीगढ़ की स्वच्छता की जवाबदारी भी अब उन्ही पर हैं | 

आज जानिये इंदौर को कचरा मुक्त बनाने वाले इंदौर नगर निगम के सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट कंसल्टेंट डॉ असद अली वारसी (Dr Asad Warsi, Indore) के बारे में  जिनके अथक मेहनत और प्लानिंग से ही इंदौर लगातार ३ बार से  स्वच्छता में देश का सिरमौर बना है , इस इंदौर वाले शख्स की कहानी आपको प्रेरणा देगी  कि काम में श्रेष्ठता के क्या मायने होते हैं |

 

शाजापुर की स्कूलिंग के बाद असद वारसी जी ने सिविल इंजिनीयरिंग, एमटेक और एनवायरमेंटल साइंसेज में पीएचडी की पढ़ाई की और पिछले २5 से अधिक वर्षों से वे  वेस्ट मैनेजमेंट और पर्यावरण के लिए इन्डस्ट्री , बिजनेस हाउस, सरकार , निगमों , फैक्ट्री में  वेस्ट मैनेजमेंट अवेयरनेस बढ़ा रहें  और उनके जूनून का नतीज़ा निकला की जब स्वच्छ भारत अभियान योजना भारत सरकार ने लांच की तो वे देश के चुनिन्दा एक्सपर्ट्स में थे जिन्हें इसका ज्ञान था |

 

 

ये NGT की सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट की टेक्नीकल कमिटी के मेम्बर हैं साथ ही  भारत सरकार स्वच्छता मिशन, मिनिस्ट्री ऑफ़ फारेस्ट एंड क्लाइमेट चेंज और देश प्रदेश की कई समितियों में मुख्य सलाहकार और विशेषज्ञ के तौर पर शामिल हैं  , इसके बावजूद बेहद विनम्र और नाम के पीछे न भागने वाले वारसी जी की सहज जीवन शैली और अथक मेहनत ने उन्हें शीर्ष पर पहुंचा दिया है |

 

.

 

असद वारसी सुबह ४ बजे से निगम अधिकारीयों के साथ मोनिटरिंग करने निकलते हैं और देर रात तक इंदौर निगम , कर्मचारी , स्धिकारी और अजेंसीज़ से संपर्क में रहकर कार्य करवाते रहे |  असद वार्स्री जी के इस प्लानिंग ने ऐसा असर दिखाया है की यूनाईटेड नेशंस ने इंदौर के कचरा प्रबंधन मॉडल को ग्लोबल मॉडल फॉर सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट की मान्यता दे दी है |

असद वारसी जी की कंपनी होस्विन इन्सिनरेटर एक मात्र अधिकृत बायो-मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट करने वाली संस्था है |

इन्ही की सलाह पर निगम ने इंदौर के ट्रेन्चिंग ग्राउंड्स को कचरामुक्त बनाया और अब वहां  एक सिटी फारेस्ट लहलहाएगा |  ५६ दूकान , सराफा और ईटिंग जॉइंट्स को डिस्पोजेबल फ्री बनाने की सलाह और उसका एग्जीक्यूशन भी वारसी जी की एक बड़ी सफलता है |

वारसी जी के इसी मेहनत और जज्बे का पारिणाम है की इंदौर स्वच्चाता में हैट्रिक लगा पाया |

 

असद वारसी कहते हैं कि यह सब इंदौर की जनता और शानदार प्रशासनिक अधिकारीयों का समर्थन  था जो इस प्लानिंग को अमली जामा पहनाया जा सका |

 

Sameerr Sharma
ADMINISTRATOR
PROFILE

Posts Carousel

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

Latest Posts

Top Authors

Most Commented

Featured Videos

Follow Us