Breaking News
Home / Business / कितने आदमी थे – “तीन” …इंदौर के स्टार्ट-अप विटीफीड की कहनी

कितने आदमी थे – “तीन” …इंदौर के स्टार्ट-अप विटीफीड की कहनी

 

लोकल से ग्लोबल बनने की कहानी ….तीन युवाओं की जुबानी 

This Startup started in September 2014 and now included in 175 top websites of the

world and world’s second largest viral content company.
wittylogo

“इंजीनियरिंग के फर्स्ट इयर में हमने एक फेसबुक पेज अपलोड किया था, जिस पर हम कंटेंट पोस्ट करते थे। हम तीनों ने यानि, शशांक वैष्णव, विनय सिंघल और प्रवीण सिंघल ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई करते हुए फर्स्ट ईयर में सिर्फ 300 रुपए की लागत से स्टार्टअप की शुरुआत की थी। 

धीरे-धीरे हमारा पेज लोगों को पंसद आने लगा और हमने 40 लाख फॉलोअर्स का आंकड़ा पार कर दिया, लेकिन इससे हम पैसे नहीं कमा पा रहे थे। तब हमने नौकरी खोजी। इंजीनियरिंग खत्म होने के बाद हमने कई नौकरियां की और वहां से अनुभव लिया। फिर सोचा कि हम हमारी एक खुद की कंपनी शुरू करें। शहर में बढ़ते स्टार्टअप कल्चर और ब्लॉगर्स को देखकर हमने सोचा यहीं से शुरुआत करें। तीन युवाओं द्वारा इंदौर से शुरू किया गया स्टार्टअप विश्व की टॉप 200 वेबसाइट्स में शामिल हो चुका है। विटिफीड के सीईओ विनय सिंघल ने बताया ….

 

वेबसाइट्स की रैंकिंग करने वाली एलेक्सा डॉटकॉम ने विटीफीड को 200 ग्लोबल रैंक दी है।

विटीफीड को यह रैंक पिछले तीन महीनों में वेबसाइट पर आने वाले यूजर्स के आधार पर दी गई है। विटीफीड विभिन्न् विषयों पर लिखने वाले लेखकों को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म उपलब्ध करवाता है। खास बात यह है कि इस वेबसाइट को हिंदुस्तान से ज्यादा ब्रिटेन और अमेरिका में पढ़ा जाता है। वेबसाइट के करीब 45 प्रतिशत विजिटर्स यूएसए और यूके से हैं। रोजाना विटीफीड पर 50 लाख से अधिक लोग विजिट करते हैं।

विनय और प्रवीण हरियाणा के एक छोटे से कस्बे से हैं। वहीं शशांक उज्जैन के पास स्थित बड़नगर के रहने वाले हैं। पहले इन्होंने लोगों को वेबसाइट और एप बनाकर देते थे। कॉलेज में हुई दोस्ती के बाद तीनों ने इंदौर में राइटर्स को मंच देने के लिए विटीफीड शुरू की। 

Wittyfeed

 

स्टार्टअप के लिए स्टार्टअप – 

विटीफीड प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करने के लिए कई लोगों ने राइटर्स की टीम बनाकर खुद की कंपनी खोली है। इसमें वे राइटर्स से आर्टिकल लिखवाकर विटीफीड पर पोस्ट करते हैं। इसमें हिंदुस्तान के साथ विदेशों के लोग भी शामिल हैं।

फिलीपिंस के रेपल ने 10 लोगों राइटर्स को लेकर एक कंपनी खोली है जो सिर्फ विटीफीड पर पोस्ट करती है। वहीं देहरादून के शिवांक जोशी ने भी ऐसी ही एक कंपनी बनाई है। इनके साथ इंदौर से नेहा मंगवानी, हैदराबाद से सोमिन और यश जैन जैसे कई युवाओं ने विटीफीड के लिए कंपनी स्थापित की हैं। विटीफीड पर करीब 100 लोग रोजाना लिखते हैं। जबकि लिखने के लिए अब तक करीब 50 हजार राइटर्स रजिस्टर करा चुके हैं।

अब  इसमें राइटर्स को रैंकिंग दी जाएगी और उन्हें कैटेगरी भी मिलेगी। हम अपने इस स्टार्टअप के जरिए राइटर्स के लिए एक पूरी कम्यूनिटी बनाना चाहते हैं। यदि कोई भी राइटर बनना चाहता है तो उसे प्लेटफॉर्म के साथ इनकम भी मिलना चाहिए। अप्रैल तक हिंदुस्तान की टॉप 50 कंपनियों में आने का लक्ष्य रखा है ऐसा कहना है शशांक वैष्णव, फाउंडर, विटीफीड का …

विटीफीड का रैंकिंग स्टेटस 

  • यूके और ऑस्ट्रेलिया में टॉप 50 में 
  • यह रैंकिंग है विभिन्न् देशों में 
  • ग्लोबल रैंक- 200 
  • यूएसए- 120
  • यूके- 37
  • इंडिया- 111
  • ऑस्ट्रेलिया- 49
  • कनाडा- 63

Address:

Wittyfeed, Indore

911, 9th floor, Shekhar Central,  Palasia Square, Indore

 

इन तीनों की कहानी एक प्रेरणा बने इंदौर के स्टार्टअप्स के लिए तो इंदौर भी वर्ल्ड स्टार्ट अप मैप पर जल्द ही दिखेगा …

कीप इट अप विटीफ़ीड ..

 

cropped-Ohindore_Logo1-2.png

TEAM OHINDORE.COM | ohindore@gmail.com

वामन हरी पेठे, इंदौर

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

इंदौर में 14 ट्रेन्स का आने जाने का समय बदला – नया टाइम टेबल आज से लागू

Share this on WhatsApp . इंदौर के नागरिकों और यात्रियों के लिए महत्वपूर्ण सूचना  . …

error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात