Breaking News

पत्र

इंदौर का ईराक , उसके सद्दाम और धाँसू बमबारी ..जी हाँ इंदौर राईटर्स क्लब

समीर शर्मा | इंदौर | इंडियन कॉफ़ी हाउस इंदौर में इराक?  …कॉफ़ी हाउस में हर ईतवार जमता हिंदी साहित्य और अनुभव का मजमा … जी हाँ और इस  इराक में बांटती है खुशियाँ , लगते हैं कहकहे , कही और सुनी जाती  है कविता , कहा जाता है व्यंग , किस्सागोई …

Read More »

एक इन्दोरी के नए साल के संकल्प – अभय बर्वे

  भिया हर साल जैसे इस बार भी नया वर्ष आ रिया है, इसलिए मजबूरन मेरेको भी नए वर्ष के संकल्प करना पड़ रिये है, इसमें कुछ संकल्प पिछले साल से लगत में चलते रेंगे ( गतांक से अग्गे टाइप )   १) पिछले साल का रेझल ( रेझर का …

Read More »

क्या है ! आपके पास आपका “पैराशूट”? याद किया है आपने उसे कभी ?

आपका “पैराशूट” : (Whats App Message Story ) एयर कमोडोर विशाल एक जेट पायलट थे ।   एक लड़ाई में उसके फाइटर प्लेन ने दुश्मन की सेना में बड़ा धमाल मचाई और शत्रु सेना का बहुत नुक्सान  कर दिया , उनके प्लेन के आते ही खलबली मच जाती थी | उसी लड़ाई …

Read More »

माँ की लोरी – हर एक के बचपन का सबसे सुनहरा क्षण …

चंदामामा दूर के,  पुए पकाये गूड़ के   …..आई न याद …ये है आपकी ज़िन्दगी की सबसे पहली म्यूजिकल  प्लेलिस्ट जो आप कभी नहीं भूलेंगे ….लोरियां  लोरी , जब भी आप यह “जादुई” शब्द सुनेंगे तो ये हीओ नहीं सकता की आप अपने बचपन में ना चले जाएँ ,या अपने बच्चों …

Read More »

अखबार का प्रथम-पृष्ठ – फ्रंट पेज – प्रदीप शर्मा की टिप्पणी आज के अखबारों पर

अभी- अभी  प्रदीप शर्मा जी का कॉलम …  नमस्कार ! विजयादशमी की शुभकामनायें। अखबार पत्रकारिता का एक प्रमुख अंग है । प्रमुखतः यह समाचारों के आदान-प्रदान का माध्यम है । जन-भावना को  प्रकट करने और समाज में जागरूकता लाने का काम भी अखबार बखूबी करते आए हैं । व्यवस्था,प्रशासन और सरकार …

Read More »

याद हैं ना ये टिफिन बॉक्स – बचपन का सबसे कीमती सामान और ना भूलने वाली याद

हमारे टिफिन की कहानी और यादें  हिंदी ब्लॉग साईट लिटिल रेड बॉक्स एक बार फिर से आपकोअपनी मीठी यादों में ले जाने को तैयार है , तो चलें  इस बार अपने स्कूल के टिफ़िन के मेनू की यादों में … एक खन या दो खन का जर्मन / अलुमिनियम डब्बा …

Read More »

अभी – अभी – आज के हालात पर प्रदीप शर्मा जी का एक नोट …

  अभी- अभी      परिस्थितियां इंसान को कमज़ोर बना देती हैं और परिस्थितियां ही उसे महान भी बना देती हैं । खराब हाव्लात में भी इंसान को लड़ते देखा गया है और अच्छे हालात में भी समर्पण करते देखा गया है । सन् 47 के पहले सभी गुलाम पैदा हुए और 47 के बाद …

Read More »

“ये ज़मीन ये आसमां….हमारा कल, हमारा आज….हमारा बजाज” हिंदी ब्लॉग साईट लिटिल रेड बॉक्स की एक और प्रस्तुति

हिंदी ब्लॉग साईट लिटिल रेड बॉक्स एक बार और आपको अपनी मीठी यादों में ले जाने को तैयार है , तो चलें  इस बार अपने बजाज पर सैर करने ..यादों की …:)   प्यारी बजाज स्कूटर, ये ज़मीन ये आसमां….हमारा कल, हमारा आज….हमारा बजाज! तुम्हारा नाम पढ़ते ही कौन ऐसा …

Read More »

मालवा के गौरव हास्य कवि स्व. ओम व्यास ओम की स्मृति में भांजे भुवन का श्रद्धांजलि आलेख

  यादांजली …. मेरी “मामा” के साथ बचपन में स्कूल और स्कूल के फाइनल परीक्षा का आखरी दिन, जितनी ख़ुशी परीक्षा के खत्म होने की नहीं उससे ज्यादा ख़ुशी उसी शाम को रोडवेज की बस में नानी के पास जाने की होती थी, उस टाइम रोडवेज की बस का सहारा …

Read More »

क्या आप अपने दोस्तों और अपनों के लिए एक सेफ्टी वॉल्व हैं ?

क्या आप अपने दोस्तों और अपनों के लिए एक सेफ्टी वॉल्व हैं ? कोई बात बिगड़ जाए कोई मुश्किल पड़ जाए..  कभी कोई ऐसी बात या घटना हो जाती है, जिससे व्यक्ति बहुत निराश हो जाता है। यह उसके जीवन के अत्यंत महत्वपूर्ण क्षण होते हैं। वो किसी अपने के …

Read More »

गर्मी की छुट्टियाँ ० लिटिलरेड बॉक्स से एक और पेशकश , यादों का पत्र

यादों का पत्र…     प्यारी गर्मी की छुट्टियों, तुम कहाँ चली गईं…और अपने साथ कितना कुछ ले गईं. वो नानी के घर जाना, दिन भर उधम मचाना, तपती धूप में शैतानियाँ, वो कॉमिक्स पढ़ना और उनकी लाइब्रेरी चलाना, फ्रीज में दूध-पानी की आइसक्रीम जमाना, वो ताश की बाज़ियाँ और …

Read More »

प्यारी ऑडियो कैसेट – यादों का पत्र littleredbox.in से

प्यारी ऑडियो कैसेट, तुमसे हमारी कितनी सारी म्यूज़िकल यादें जुड़ी हुई हैं. टेप में खुद उल्टा लगकर सीधे, सच्चे गीत सुनाती थीं तुम!   नई फिल्म रिलीज़ हुई नहीं कि उसकी कैसेट खरीदने की होड़ लग जाती थी. ड्राइंग रूम की अलमारी या रैक में कैसेट कवर, एक के ऊपर …

Read More »
error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात