Breaking News
Home / literature / Blog

Blog

इंदौर लिटरेचर फेस्टिवल – १६ से १८ दिसंबर , साहित्य का कुम्भ

समीर शर्मा | ओह इंदौर.कॉम | १५-१२-२०१६ | इंदौर तीन दिनी इंदौर लिटरेचर फेस्टिवल आह्वान 16 दिसंबर से शुरू होगा।    16 दिसंबर को सुबह 10 बजे होटल फॉर्च्यून लैंडमार्क में इसका उद्घाटन नृत्यांगना रागिनी मख्खर और साथियों  के इन्क्रेडिबल इंडिया डांस से होगा। 18 दिसंबर तक चलने वाले इस …

Read More »

हाथ से बुना स्वेटर , एक याद , एक अहसास – एक प्यार से भरी हुई गर्माहट – लिटिल रेड बॉक्स से

  प्यारे हाथ से बने स्वेटर, तुम्हारा नाम लेते ही भरी सर्दी में भी एक प्यार भरी गर्माहट दिल पर छा जाती है. मानता हूँ, दिन भर मॉल से खरीदा ऊँचे ब्रांड का महंगा स्वेटर पहने घूमता हूँ. उसकी चमक लाजवाब है, फिनिशिंग कमाल की और डिजाइन भी मॉडर्न. पर …

Read More »

माँ की लोरी – हर एक के बचपन का सबसे सुनहरा क्षण …

चंदामामा दूर के,  पुए पकाये गूड़ के   …..आई न याद …ये है आपकी ज़िन्दगी की सबसे पहली म्यूजिकल  प्लेलिस्ट जो आप कभी नहीं भूलेंगे ….लोरियां  लोरी , जब भी आप यह “जादुई” शब्द सुनेंगे तो ये हीओ नहीं सकता की आप अपने बचपन में ना चले जाएँ ,या अपने बच्चों …

Read More »

अखबार का प्रथम-पृष्ठ – फ्रंट पेज – प्रदीप शर्मा की टिप्पणी आज के अखबारों पर

अभी- अभी  प्रदीप शर्मा जी का कॉलम …  नमस्कार ! विजयादशमी की शुभकामनायें। अखबार पत्रकारिता का एक प्रमुख अंग है । प्रमुखतः यह समाचारों के आदान-प्रदान का माध्यम है । जन-भावना को  प्रकट करने और समाज में जागरूकता लाने का काम भी अखबार बखूबी करते आए हैं । व्यवस्था,प्रशासन और सरकार …

Read More »

याद हैं ना ये टिफिन बॉक्स – बचपन का सबसे कीमती सामान और ना भूलने वाली याद

हमारे टिफिन की कहानी और यादें  हिंदी ब्लॉग साईट लिटिल रेड बॉक्स एक बार फिर से आपकोअपनी मीठी यादों में ले जाने को तैयार है , तो चलें  इस बार अपने स्कूल के टिफ़िन के मेनू की यादों में … एक खन या दो खन का जर्मन / अलुमिनियम डब्बा …

Read More »

अभी – अभी – आज के हालात पर प्रदीप शर्मा जी का एक नोट …

  अभी- अभी      परिस्थितियां इंसान को कमज़ोर बना देती हैं और परिस्थितियां ही उसे महान भी बना देती हैं । खराब हाव्लात में भी इंसान को लड़ते देखा गया है और अच्छे हालात में भी समर्पण करते देखा गया है । सन् 47 के पहले सभी गुलाम पैदा हुए और 47 के बाद …

Read More »

“ये ज़मीन ये आसमां….हमारा कल, हमारा आज….हमारा बजाज” हिंदी ब्लॉग साईट लिटिल रेड बॉक्स की एक और प्रस्तुति

हिंदी ब्लॉग साईट लिटिल रेड बॉक्स एक बार और आपको अपनी मीठी यादों में ले जाने को तैयार है , तो चलें  इस बार अपने बजाज पर सैर करने ..यादों की …:)   प्यारी बजाज स्कूटर, ये ज़मीन ये आसमां….हमारा कल, हमारा आज….हमारा बजाज! तुम्हारा नाम पढ़ते ही कौन ऐसा …

Read More »

Want to buy a DSLR Camera ? Get an Expert’s advice….

In current market scenarios it is really difficult for a beginner to decide which camera to buy as there are many choices available and beginners are generally confused where to start.  . A recommendation to buy a particular camera to someone may not be same for other person as it …

Read More »

मालवा के गौरव हास्य कवि स्व. ओम व्यास ओम की स्मृति में भांजे भुवन का श्रद्धांजलि आलेख

  यादांजली …. मेरी “मामा” के साथ बचपन में स्कूल और स्कूल के फाइनल परीक्षा का आखरी दिन, जितनी ख़ुशी परीक्षा के खत्म होने की नहीं उससे ज्यादा ख़ुशी उसी शाम को रोडवेज की बस में नानी के पास जाने की होती थी, उस टाइम रोडवेज की बस का सहारा …

Read More »

क्या आप अपने दोस्तों और अपनों के लिए एक सेफ्टी वॉल्व हैं ?

क्या आप अपने दोस्तों और अपनों के लिए एक सेफ्टी वॉल्व हैं ? कोई बात बिगड़ जाए कोई मुश्किल पड़ जाए..  कभी कोई ऐसी बात या घटना हो जाती है, जिससे व्यक्ति बहुत निराश हो जाता है। यह उसके जीवन के अत्यंत महत्वपूर्ण क्षण होते हैं। वो किसी अपने के …

Read More »

प्यारे स्कूल के पहले दिन – A Letter from your Childhood by Littleredbox.in

  प्यारे स्कूल के पहले दिन…   . जैसे-जैसे गर्मी की छुट्टियाँ खत्म होने लगती तुम्हारा टेंशन सताने लगता था. यूँ लगता था कि मानो जिससे पुराना उधार लिया हो, वह वापिस वसूल करने आने वाला हो. फिर वही पढ़ाई, किताबें, होमवर्क, क्लास टेस्ट, रिज़ल्ट…मन में आता काश ये छुट्टियाँ …

Read More »

गर्मी की छुट्टियाँ ० लिटिलरेड बॉक्स से एक और पेशकश , यादों का पत्र

यादों का पत्र…     प्यारी गर्मी की छुट्टियों, तुम कहाँ चली गईं…और अपने साथ कितना कुछ ले गईं. वो नानी के घर जाना, दिन भर उधम मचाना, तपती धूप में शैतानियाँ, वो कॉमिक्स पढ़ना और उनकी लाइब्रेरी चलाना, फ्रीज में दूध-पानी की आइसक्रीम जमाना, वो ताश की बाज़ियाँ और …

Read More »

प्यारी ऑडियो कैसेट – यादों का पत्र littleredbox.in से

प्यारी ऑडियो कैसेट, तुमसे हमारी कितनी सारी म्यूज़िकल यादें जुड़ी हुई हैं. टेप में खुद उल्टा लगकर सीधे, सच्चे गीत सुनाती थीं तुम!   नई फिल्म रिलीज़ हुई नहीं कि उसकी कैसेट खरीदने की होड़ लग जाती थी. ड्राइंग रूम की अलमारी या रैक में कैसेट कवर, एक के ऊपर …

Read More »
error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात