Breaking News
Home / Culture / गुड़ी पड़वा – नव वर्ष की बधाइयाँ

गुड़ी पड़वा – नव वर्ष की बधाइयाँ

चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा को गुड़ी पड़वा या वर्ष प्रतिपदा या उगादि (युगादि) कहा जाता है।

इस दिन हिन्दु नववर्ष का आरम्भ होता है।

‘गुड़ी’ का अर्थ ‘विजय पताका’ होता है। कहते हैं शालिवाहन नामक एक कुम्हार-पुत्र ने मिट्टी के सैनिकों की सेना से प्रभावी शत्रुओं का पराभव किया। इस विजय के प्रतीक रूप में शालिवाहन शक का प्रारंभ इसी दिन से होता है। ‘युग‘ और ‘आदि‘ शब्दों की संधि से बना है ‘युगादि‘। आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में ‘उगादि‘ और महाराष्ट्र में यह पर्व ‘ग़ुड़ी पड़वा’ के रूप में मनाया जाता है।

कहा जाता है कि शालिवाहन नामक एक कुम्हार के लड़के ने मिट्टी के सैनिकों की सेना बनाई और उस पर पानी छिड़ककर उनमें प्राण फूँक दिए और इस सेना की मदद से शिक्तशाली शत्रुओं को पराजित किया। इस विजय के प्रतीक के रूप में शालिवाहन शक का प्रारंभ हुआ। कई लोगों की मान्यता है कि इसी दिन भगवान राम ने बाली के अत्याचारी शासन से दक्षिण की प्रजा को मुक्ति दिलाई। बाली के त्रास से मुक्त हुई प्रजा ने घर-घर में उत्सव मनाकर ध्वज (ग़ुड़ियां) फहराए। आज भी घर के आंगन में ग़ुड़ी खड़ी करने की प्रथा महाराष्ट्र में प्रचलित है। इसीलिए इस दिन को गुड़ीपडवा नाम दिया गया।

nav5

इसी प्रतिपदा के दिन आज से 2073 वर्ष पूर्व उज्जयनी नरेश महाराज विक्रमादित्य ने विदेशी आक्रांत शकों से भारत-भू का रक्षण किया और इसी दिन से काल गणना प्रारंभ की। उपकृत राष्ट्र ने भी उन्हीं महाराज के नाम से विक्रमी संवत कह कर पुकारा। महाराज विक्रमादित्य ने आज से 2073 वर्ष पूर्व राष्ट्र को सुसंगठित कर शकों की शक्ति का उन्मूलन कर देश से भगा दिया और उनके ही मूल स्थान अरब में विजयश्री प्राप्त की। साथ ही यवन, हूण, तुषार, पारसिक तथा कंबोज देशों पर अपनी विजय ध्वजा फहराई। उसी के स्मृति स्वरूप यह प्रतिपदा संवत्सर के रूप में मनाई जाती थी और यह क्रम पृथ्वीराज चौहान के समय तक चला। महाराजा विक्रमादित्य ने भारत की ही नहीं, अपितु समस्त विश्व की सृष्टि की। सबसे प्राचीन कालगणना के आधार पर ही प्रतिपदा के दिन को विक्रमी संवत के रूप में अभिषिक्त किया। इसी दिन मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान रामचंद्र के राज्याभिषेक अथवा रोहण के रूप में मनाया गया। यह दिन ही वास्तव में असत्य पर सत्य की विजय दिलाने वाला है।

1. ब्रह्म पुराण हिंदू धर्म का प्राचीन ग्रंथ है। इसके अनुसार पितामह ब्रह्मा ने इसी दिन से सृष्टि निर्माण का कार्य प्रारम्भ किया था। इसीलिए इसे सृष्टि का प्रथम दिन माना जाता है। धर्म ग्रंथों के अनुसार चारों युगों में सबसे प्रथम सत्ययुग का प्रारम्भ इसी तिथि से हुआ था। इस दिन से सृष्टि का कालचक्र प्रारंभ हुआ था। इसे सृष्टि का पहला दिन भी माना जाता है।

2. शास्त्रों के अनुसार मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम का राज्याभिषेक भी गुड़ी पड़वा के दिन ही हुआ था। वहीं धर्मराज युधिष्ठिर भी इसी दिन राजा बने थे और उन्होंने ही युगाब्द (युधिष्ठिर संवत) का आरंभ इसी तिथि से किया था।

3. मां दुर्गा की उपासना का पर्व चैत्र नवरात्रि भी इसी तिथि से प्रारंभ होती है। ऐसी मान्यता है कि साल के पहले नौ दिनों में माता की आराधना से प्राप्त शक्ति से साल भर जीवन शक्ति का क्षय नहीं होता।

4. उज्जयिनी (वर्तमान उज्जैन) के सम्राट विक्रमादित्य ने भी विक्रम संवत् का प्रारम्भ इसी तिथि से किया था। महर्षि दयानंद द्वारा आर्य समाज की स्थापना भी इसी दिन की गई थी।

सभी को नव वर्ष की बहुत बहुत शुभकामनाएं 

 

 

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

प्रकृति के रंगों से खेलिए होली….जानिए कैसे बना सकते हैं नेचुरल कलर्स इस होली पे ….

Share this on WhatsApp सनावादिया | 22 फरवरी, 2018| Jimmy McGilligan Center for Sustainable Development, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*