Breaking News
Home / Food / क्रांतिकारी “बैंजो” – फ़रीद बाबा का ठिया…दुनिया में सिर्फ यहीं मिलता है ये बैंजो …

क्रांतिकारी “बैंजो” – फ़रीद बाबा का ठिया…दुनिया में सिर्फ यहीं मिलता है ये बैंजो …

समीर शर्मा | जवाहर मार्ग , इंदौर

स्पेशल झन्नाट रिपोर्ट 

यहाँ तो अंडे का बैंजो भी क्रांतिकारी है …..

अगर इंदौर में छोटे- छोटे खाने के ठिये ना होते तो, शायद ये शहर, इतना मशहूर भी ना होता | कोई चाय तो कोई पोहे, जलेबी तो रबड़ी, कहीं उसल तो कहीं कचोरियाँ ….और हाँ बैंजो के भी ..

 

आज बात करता हूँ , इन सबसे अलग तरह के खाने की , अंडे से बनने वाले ऑमलेट को ब्रेड-बन में सैंडविच की तरह बीच में रखकर खाने की स्टाईल , जिसे यहाँ बैंजो कहा जाता है ..

 

मेरे बचपन के दोस्त जीतू के साथ मैने इस अद्भुत घटना को देखा और इन्टरव्यू लिया और हाँ खाया भी क्रांतिकारी बैंजो ….

अंडा सबसे ज्यादा सुलभ, सस्ता , प्रोटीन से भरपूर इस खाने की इस रेसीपी ने इंदौर में धूम मचा रखी है …हर गली, मोहल्ले में बैंजो के ठेले मिल जायेंगे | 

आज जिस बैंजो के बारे में बात कर रहा हूँ वह है एक ४५ साल से ज्यादा पुरानी विरासत जिसे फरीद बाबा ने शुरू किया था ..

आज इसे इनके दोनों बेटे संभाल रहें हैं ..इनके छोटे बेटे से मुलाक़ात हुई जिनका नाम शाहनवाज़ “शानू सेठ “ है |

IMG_5551
शाहनवाज़ , शानू सेठ

 

शानू ने बताया की मेरे पिताजी पहले सिर्फ उबले अंडे बेचा करते थे फिर लोगों के जोर देने पर उन्होंने ऑमलेट और फिर बैंजो बनाना शुरू किया | फरीद बाबा ने ही विशेष आकर्षण के लिए दो टाईप के बैंजो ईजाद किये …समाजवादी बैंजो और क्रांतिकारी बैंजो …

जैसा नाम से समझ में आता है समाजवादी बैंजो आम जनता के लिए जो मिर्च उर घी / तेल कम खाते हैं…और क्रांतिकारी बैंजो वह जो की वाकई में क्रान्ति ला दे …बनाने में भी , खाने में भी और खाने के बाद दुसरे दिन भी 😉 

कैसे बनाते हैं बैंजो फरीद बाबा के इस ठिये पर …प्रेमसुख टाकिज जो अब पार्किंग बन  चुका है , उसके पेट्रोल पम्प के  पास , पुल के पहले 

IMG_5468

ये है इनका ठेला ..इसकी उम्र ४५ साल से ज्यादा है ….

 

१ अंडे में नमक, लाल मिर्च, गर्म मसाला , हरा धनिया और कुछ और मसाले डाल कर फेंटा जाता है एक छोटी सी स्टील की तपेली में फिर  मोटे लोहे के बड़े तवे पर खूब सारे वनस्पति घी में डाला जाता है , फिर उसपर कद्दूकस किये प्याज और २ साबूत हरी मीच की फांके दाल कर दोनों ओर से सेकते हैं …

 

IMG_5534

 

शानू सेठ ….साथ में मजेदार बाते भी करते रहते हैं तो ग्राहकों को वेटिंग का ख्याल ही नहीं रहता …

 

IMG_5545

 

अब ब्रेड-बन को बीच में से काटकर उसे सका जाता है फिर उस पर मिर्च-मसाले की एक लेयर और उसमे बीच में भरा जाता है ये ऑमलेट और उस पर फिर से लाल मिर्च और कद्दू वाले सॉस के साथ अखबार पर लपेट कर दिया जाता है ...समाजवादी बैंजो 

 

IMG_5523

 

 

और अब इनका सबसे जबरदस्त आइटम “क्रांतिकारी बैंजो “...कीमत सिर्फ 100 रु से शुरू …..स्वाद लाजवाब ..आप कम से कम दो खायेंगे …मिर्च का कलर लाल है पर ज्यादा तेज़ नही …..ये बैंजो एक आदत बन जाये ये तो लाजिमी है …..

 

अब बात क्रांतिकारी बैंजो की …..

सबसे पहले ये बनता है ४ अन्डो से, मसाले, प्याज , मसाले , नमक मिर्च , हरी मिर्च , धनिया पाउडर डालकर उसे खूब फेंटा गया …फिर उसे डाला गया गर्मागर्म तवे पर घी के बीचोंबीच ..

IMG_5555

 

उपर से स्पेशल सीक्रेट मसाले …

IMG_5558

 

हैं ना क्रांतिकारी शकल से ही ?

IMG_5559

 

अब थोडा सिक जाने पे बनना शुरू होता है इस क्रांतिकारी बैंजो …..स्पेशल स्प्रिंग वाले टूल से

 

IMG_5560

 

इसे लपेटा  जाता है …

IMG_5564

 

और लपेटा  जाता है …

IMG_5570

 

और और लपेटा  जाता है …

IMG_5571

ऐसे ही एक टक  देखते रहते हैं लोग इस क्रन्तिकारी शो  को .. आँखे और मुँह खुला रह जाता है …

IMG_5567

 

फिर इसे और सेकते हैं …..

IMG_5581

 

लगभग २ मिनिट में यह पूरा तैयार है , अब इसका स्प्रिंग टूल निकाल दिया जाता है …

IMG_5587

 

IMG_5590

 

धीरे धीरे , बड़े इत्मीनान से शानू सेठ इसे निकाल देते हैं …

IMG_5592

 

फिर इसे काटा जाता है रोल्स के रूप में जैसे भाकर-वडी हो…..

IMG_5596

 

अब इन्हें फ्राय किया जाता है एक दम कड़क और करारे होने तक ..

IMG_5594

 

और फिर प्याज और हरी मिर्च के साथ , लाल वाला सॉस ….

 

IMG_5604
बेहद क्रांतिकारी बैंजो ….

 

कसम से एक क्रांतिकारी खाने के बाद आप कुछ और खाने की स्थिति में नही रहते ….बेहद लज़ीज़ और तर माल और झन्नाट है क्रांतिकारी बैंजो ….

कमजोर पेट वाले तो इसे बिलकुल ना खाएं …….एक ऐसी डिश जो शायद दुनिया में कहीं और नहीं मिलती , इंदौर के सिवा , और इंदौर में भी सिर्फ फ़रीद बाबा के ठिये पे …

पूरे १०० रु का है क्रांतिकारी बैंजो , पर आप यदि बातायेंगे की आपने ओह इंदौर की वेबसाईट से उनकी कहानी पढी है तो शायद डिस्काउंट मिले और कुछ ज्ञान भी ..शानू सेठ का ….

 

 

* यह पूरी रिपोर्ट ओह इंदौर की संपत्ति है , इसमें लिए गए फोटोग्राफ्स को बिना अनुमति के इस्तेमाल करना अवैधानिक होगा | सभी फोटोग्राफ्स का कॉपीराईट ओह इंदौर के पास सुरक्षित |

 

समीर शर्मा, जीतेन्द्र थनवार 

9755012734 | ohindore@gmail.com 

 

समीर शर्मा | जवाहर मार्ग , इंदौर स्पेशल झन्नाट रिपोर्ट  यहाँ तो अंडे का बैंजो भी क्रांतिकारी है ..... अगर इंदौर में छोटे- छोटे खाने के ठिये ना होते तो, शायद ये शहर, इतना मशहूर भी ना होता | कोई चाय तो कोई पोहे, जलेबी तो रबड़ी, कहीं उसल तो कहीं कचोरियाँ ....और हाँ बैंजो के भी ..   आज बात करता हूँ , इन सबसे अलग तरह के खाने की , अंडे से बनने वाले ऑमलेट को ब्रेड-बन में सैंडविच की तरह बीच में रखकर खाने की स्टाईल , जिसे यहाँ बैंजो कहा जाता है ..   मेरे बचपन…

User Rating: 4.74 ( 4 votes)
वामन हरी पेठे, इंदौर

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

दिवाली के शानदार परंपरागत ५ नाश्ते / स्नैक्स : ये नहीं तो दिवाली नहीं…

Share this on WhatsApp Indore | 29th October| Indore City | Festival दिवाली की थाली …

error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात