Breaking News
Home / Culture / ईद की मुबारकबाद – इंदौर के एक युवा का ईद पर मासूम पैगाम, शहर के नाम

ईद की मुबारकबाद – इंदौर के एक युवा का ईद पर मासूम पैगाम, शहर के नाम

ईद –उल फितर यानी ईद का नाम जेहन में आते ही खुशी का अहसास होने लगता है, और  वास्तव में यही इसका मकसद भी है |

रमजान के बाद ईद का चाँद दिखाई देता है, जिससे हर रोजेदार का चेहरा खिल उठता हे और हर और खुशियों और उमंगो का माहोल बन जाता है |

ईद का आगमन इस बात की सुचना है, कि अब चारो तरफ खुशियो का अम्बार लगा देती है,  जो इंसान के जीवन में आनंद और उल्लास से भर देगा

रमज़ान  में रोज़े रखने से मतलब सिर्फ खाना पीना बंद कर देने से नही बल्कि रोज़ो का असल उद्देश्य अपने आप पर संयम पा लेना है , कुरआन में साफ-साफ़ लिखा है कि :  “ऐ ईमान वालों ,  रोज़े (उपवास/FAST) तुम पर फर्ज किये गए हैं,  ताकि तुम परहेजगार बन जाओ”|  वास्तव में यह अपने घमंड ,अहंकार,असामाजिक,अनैतिक कामो को छोड़ देने से है |

..और जब इंसान यह एक महीने कसरत से रोज़े रखकर इबादत करता हे तो ईश्वर की और से उसे अपनी इन्द्रियों ,इच्छाओ को त्याग करने पर ईद मनाने का तोह्फा  मिलता है|

अगर आप के पास अच्छे कपडे हैं , और ईद मनाने के लिए आप सक्षम हैं  ,लेकिन आप के आस -पास  कही कोई  गरीब बच्चे या परिवार जो की आर्थिक रूप से कमजोर है,  आप का फर्ज है कि  आप उनके लिए कपड़ो ,खाने-पीने का इंतज़ाम और उन्हें आर्थिक रूप से सक्षम करने में मदद करे ताकि उनके चेहरे पर भी मुस्कराहट आ  सके| यही तो सच्ची ईद है …

eid

ईद के दिन मस्जिदों में सुबह की प्रार्थना से पहले हर मुसलमान का फ़र्ज़ है कि वो दान या भिक्षा दे. इस दान को ज़कात उल-फ़ितर कहते हैं।

ईद के दौरान बढ़िया खाने के अतिरिक्त, नए कपड़े भी पहने जाते हैं और परिवार और दोस्तों के बीच तोहफ़ों का आदान-प्रदान होता है। और  कि ईद उल-फ़ित्र के दौरान ही झगड़ों — ख़ासकर घरेलू झगड़ों — को निबटाया जाता है।

 

यह पावन त्योहार ईद मूल रूप से भाईचारे को बढ़ावा देने वाला त्योहार है। इस त्योहार को सभी आपस में मिल के मनाते है और खुदा से सुख-शांति और बरकत के लिए दुआएं मांगते हैं। पूरे विश्व में ईद की खुशी पूरे हर्षोल्लास से मनाई जाती है। 

मेरे अमनपसंद और सांस्कृतिक शहर इंदौर को बहुत- बहुत बधाई ! 

-तालिब लहरी , एक इन्दोरी युवा   

(तालिब लहरी, फाइन आर्ट के छात्र हैं और कार्टून विधा में अभ्यास करते हैं , इनके पिताजी प्रसिद्ध् कार्टूनिस्ट श्री इस्माइल लहरी जी हैं | )

 

 

 

 

वामन हरी पेठे, इंदौर

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

महाशय जी का चिवडा और नमकीन -१०० साल की एक पुरातन नमकीन की दुकान

Share this on WhatsApp समीर शर्मा | इंदौर | नमकीन | सेंव | चिवड़ा  महाशयजी …

error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात