Breaking News
Home / Bahai / रिजवान पर्व : बहाई धर्म का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण १२ दिवसीय पर्व १९ अप्रैल से
Ridvan Festival Bahai Faith

रिजवान पर्व : बहाई धर्म का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण १२ दिवसीय पर्व १९ अप्रैल से

.

बहाई धर्म का सबसे बड़ा पर्व : रिजवान

.

यह पृथ्वी एक देश है और सम्पूर्ण मानवजाति इसकी नागरिक है. इस वाक्य को मानने वाले  सम्पूर्ण विश्व के बहाई धर्म अनुयायियों  रिज़वान पर्व मनाएंगे | 

.

रिजवान का महत्व.

रिजवान १२ दिनों का त्यौहार है, बहाई कैलेण्डर (बदी कैलेण्डर) के हिसाब से १९ अप्रैल से १२ दिनों तक  ….

बहाई धर्म में यह त्योहारों का सम्राट माना जाता है …यह ऐतिहासिक दृष्टि से भी बहुत महत्वपूर्ण है क्यूंकि सन १८६३ में  इन दिनों में ही बहाई धर्म के संस्थापक अवतार बहाउल्लाह ने अपने आप के अवतरण और कृष्ण , मुहम्मद, ईसा और सभी पूर्व अवतारों की वापसी और अपने विश्व शांति के उद्देश्य की घोषणा की थी …

.

Image result for lotus temple oh indore

.

रिजवान का अर्थ ?

.

रिजवान पर्व को पर्वो के राजा के रूप में स्थान प्राप्त है। रिज़वान का शाब्दिक अर्थ है स्वर्ग।

बहाई लेखों में इस शब्द का प्रयोग बग़दाद में स्थित उस बगीचे के लिये किया जाता है जिसमें १९  अप्रैल से १२ दिनों  तक बहाई धर्म के संस्थापक बहाउल्लाह ठहरे थे।इसी बगीचे में बहाउल्लाह ने धरती पर अपने अवतरित होने के उद्देश्य की घोषणा अपने अनुयायियों के सामने की थी। 

यह दिन बहाउल्लाह बग़दाद में रिजवान नाम के बागीचे में गुज़ारे थे और अपने महान उद्देश्य को जनता के सामने प्रकट किया था | यहीं उन्होंने घोषणा की थी कि वे ही इस युग के अवतार हैं …और पूरी दुनिया को एकता के सूत्र में बाँधने आये हैं …

कैसे मनाया जाता है रिजवान त्यौहार ?

बहाई धर्मावलम्बी रिजवान को बड़े हर्ष से मनाते हैं , इन दिनों वे अपने मित्रों , रिश्तेदारों और आस-पडौस के लोगो से मिलकर अपने संबंधों को और मजबूती देते हैं |

प्रशासनिक व्यवस्था भी :

इन्ही दिनों में से पहले दिन यानि रिज़वान पर्व के पहले दिन बहाई आध्यात्मिक सभा का चुनाव भी सम्पन्न होता है।

बहाउल्लाह एक ऐसे अवतार हुए हैं जिन्होंने अपने द्वारा एक सम्पूर्ण प्रशासनिक व्यवस्था दी है जिसमे एक अद्भुत चुनाव व्यवस्था है |

बहाई चुनावों में कोई उम्मीदवार नहीं होता , पर हर व्यक्ति अपने पसंदीदा और काबिल साथी को ९ सदस्यीय स्थानीय समिति के लिए वोट दे सकता है परन्तु शर्त है कि उसके लिए वह नामांकन , प्रचार या प्रसार नहीं कर सकता है | ऐसा करने पर वह अयोग्य और प्रणाली में शामिल नहीं हो पायेगा |आध्यात्मिक माहौल में यह चुनाव सम्पन्न होते हैं|

.

यह एक आध्यात्मिक त्यौहार है और युग अवतार के प्रकटीकरण की याद भी |

विश्व शान्ति और विश्व एकता के लिए मनाया जाता है यह त्यौहार …बहाई धर्म के अनुयायियों की रिजवान की शुभकामनाएं …

.

Indore Ka Raja - Ganeshotsav

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

फिर से बिठाएं मिटटी के गणेश -आइये मनाएं ईकोफ्रेंडली गणेशोत्सव

Share this on WhatsApp “ग्रीन गणेशा – मिटटी के गणेश ”  एक निवेदन सभी शहरवासीयों …