Breaking News
Home / Culture / इंदौर वन-विभाग बेच रहा है प्राकृतिक रंग : मात्र १५ रु में प्राकृतिक रंगों से खेलें होली

इंदौर वन-विभाग बेच रहा है प्राकृतिक रंग : मात्र १५ रु में प्राकृतिक रंगों से खेलें होली

समीर शर्मा | होली | नेचुरल कलर्स

इंदौर वनविभाग बेच रहा है प्राकृतिक रंग 

 

इंदौर, चोरल, महू और मानपुर के जंगलों से इकट्ठा किए गए टेसू के फूलों से करीब एक हजार किलो रंग तैयार हुआ है।

 

 

 

टेसू के फूलों से बनने वाले प्राकृतिक रंग की बिक्री वन विभाग शनिवार से शुरू करने जा रहा है। विभाग ने इस बार 20 ग्राम के पैकेट की कीमत थोड़ी बढ़ा दी है। पिछले साल 10 रुपए के पैकेट थे। इस मर्तबा 15 रुपए है। हालांकि प्राकृतिक रंगों की तरफ बढ़ते रुझान को देखते हुए विभाग ने इस साल दस हजार पैकेट बेचने का लक्ष्य रखा है।

 

विभाग ने नवरत्नबाग स्थित वनमंडल कार्यालय पर स्टॉल लगाया है | 

 

ग्रामीणों को रोजगार देने की दृष्टि से प्राकृतिक रंगों की बिक्री पिछले साल से इंदौर वनमंडल ने शुरू की है। इसके लिए महू-मानपुर और चोरल के जंगलों से टेसू के फूलों को इकट्ठा किया है। चोरल रेंज कार्यालय में लगी ड्रायर मशीन पर इन्हें पीसा जाता है। इस साल लगभग 20 किलो टेंसू से रंग तैयार किया जा रहा है, जिसमें गुलाबी, लाल, पीला और नारंगी रंग रहेंगे। 

 

एसडीओ एके शुक्ला ने बताया कि प्राकृतिक रंगों से साइट इफैक्ट नहीं होने से लोग इन्हें खरीदने में दिलचस्पी दिखा रहे हैं। शनिवार-रविवार को दिनभर इनकी बिक्री की जाएगी।

 

मप्र लघु वनोपज संघ विंध्थ हर्बल कंपनी भी प्राकृतिक रंग बेचने में लगी है। इनके दाम थोड़े अधिक है। पैकेट की कीमत 25 रुपए निर्धारित की गई है। इन्हें नवलखा स्थित संजीवनी केंद्र से बेचा जा रहा है। पिछले साल भी विंध्थ हर्बल और चोरल में बने रंगों में कीमतों को लेकर काफी अंतर था। यही वजह थी कि लोगों ने नवरत्नबाग स्थित स्टॉल से खरीदने में अधिक दिलचस्पी ले रहे हैं।

 

यहाँ भी मिलेगा प्राकृतिक रंग 

जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट  द्वारा प्रशिक्षित सनावदिया  के युवा और बच्चों ने भी  जैविक सेतु पर नेचुरल कलर्स की स्टाल लगाईं है, आप यहाँ से भी यह कलर्स खरीद सकते हैं , रविवार को सुबह ७.३० से जैविक सेतु पर भी यह रंग खरीदे जा सकेंगे |  

 

herbal colors for holi celebration

 

तो खूब खेलो होली , प्राकृतिक रंगों से , गो ग्रीन  इंदौर 

वामन हरी पेठे, इंदौर

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com
error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात