Breaking News
Home / Culture / ये हैं टॉप 5 कारण इंदौर का राजा गणेशोत्सव को देखने जाने के – मध्यप्रदेश का सबसे भव्य, बड़ा गणेश छूट ना जाये

ये हैं टॉप 5 कारण इंदौर का राजा गणेशोत्सव को देखने जाने के – मध्यप्रदेश का सबसे भव्य, बड़ा गणेश छूट ना जाये

इंदौर | गणेश उत्सव | इंदौर का राजा | आलोक दुबे फाउंडेशन 

.

इंदौर में गणेशोत्सव की धूम है और एक बड़ी चर्चा भी है-

इंदौर के राजा की 

.

सभी प्रसन्न हैं और गौरवान्वित हैं , शहर में हो रहे एक बहुत ही भव्य , सुव्यवस्थित , जीरो वेस्ट पांडाल में विराजे ईको-फ्रेंडली गणेश जो स्थापित हुए हैं “इंदौर का राजा” नाम से …

आपको आज बताते हैं १० दिनी इस उत्सव की वो विशेषताएं जिसके बाद आप अपने आप को रोक नहीं पायेंगे बप्पा के इस अद्भुत आयोजन में जाने से …

आलोक दुबे फाउंडेशन  द्वारा मध्यभारत का सबसे बड़ा सांकृतिक इवेंट आपके शहर में हो रहा है 

 

.

आलोक दुबे फाउंडेशन द्वारा आयोजित इस गणेश उत्सव में क्या ख़ास है और क्या वो अद्भुत बाते हैं जो शहर का हर परिवार एक झलक के लिए शाम ६ बजे से लेकर रात २ बजे तक भी गांधी हॉल पहुँच रहा है ? 

सबसे बड़ा और भव्य प्राकृतिक पांडाल और मूर्ती :

“इंदौर का राजा” का भव्य पांडाल इसका सबसे बड़ा आकर्षण है | सांवरिया सेठ राजस्थान के मंदिर की प्रतिकृति में बनाया गया यह विशाल और आकर्षक पांडाल हर इन्दोरी का मन मोह लेता है | रोजाना हज़ारों हज़ार की भीड़ इसका प्रमाण है …११००० हज़ार बांस , सैकड़ों मीटर कपडे से बने और सभी रीयुज़ेबल सामान  से बने इस अस्थाई पांडाल की छवि  किसी वास्तविक मंदिर से कम नहीं ….

.

इसे गोल्डन बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड्स द्वारा सबसे बड़े अस्थाई और जीरो वेस्ट पांडाल का कीर्तिमान भी मिल गया है |

.

अद्भुत-आकर्षक और सबसे सुन्दर ईको फ्रेंडली गणेश प्रतिमा 

इंदौर का राजा की प्रतिमा पीली मिटटी से बंगाल के कारीगरों ने बनी है , इसमें पीली मिटटी के साथ हरी दूब, बांस, कपड़ा, विशेष औषधियां , हल्दी, चन्दन, गोंद  आदि का उपयोग किया गया है| इतनी आकर्षक और भव्य मूर्ती  आपने नहीं देखि होगी और इसनकी आँखों की मोहकता के लोग दीवाने हो रहे हैं |   

 

 बप्पा का सौम्य और सुन्दर रूप इसमें झलकता है , बच्चोंऔर बड़ों को सामान रूप में यह लुभा रही है | यह १२ फीट की ईकोफ्रेंडली मूर्ती अपने भव्यतम स्वरुप में सुदर्शना रूप में स्थापित है | 

.

२ 

आयोजक 

“इंदौर का राजा | Indore Ka Raja” की परिकल्पना करने वाले व्यक्ति हैं , श्री आलोक दुबे

आलोक दुबे शहर में अपनी एक विशिष्ट पहचान रखते हैं अपने कार्यों , शैली और अनूठे सेवा प्रकल्पों से …

ये तकनीकी शिक्षा प्राप्त हैं , यह पायलेट प्रशिक्षण ले चुके हैं,   मीडिया, जाने माने वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर हैं , शिक्षा और प्रतिष्ठापूर्ण सांस्कृतिक उत्सवो के लिए समर्पित, लेखक, विचारक एवं शिक्षाविद के रूप में शहर में सक्रिय हैं , साथ ही समाचार पत्रिका “धर्मयुद्ध” के प्रधान सम्पादक भी है , इनके सम्पादन में सिंहस्थ महापर्व पर पुस्तक “आवर्तन” का प्रकाशन किया गया था |  

आलोक दुबे अपनी सामजिक और गैर लाभकारी संस्था आलोक दुबे फाउंडेशन के माध्यम से सभी सामजिक और पारमार्थिक कार्यों का सम्पादन करते हैं | इसकी गैर राजनैतिक छवि और व्यक्तित्व का ही कमाल है की हर दल, समाज और तबके के लोग भरी संख्या में आलोक दुबे से जुड़े हैं और इनके हर कार्यक्रम को ज़बरदस्त प्रतिसाद मिलता है |

 

आलोक दुबे जी का कहना है कि सर्प्रथम उनकी गहरी आस्था श्री गणेश में है और दूसरा यह की अपने NGO अलोक दुबे फाउन्डेशन के तहत लिये गए संकल्पों में से एक है भारत देश की संस्कृति , कला और संगीत का संरक्षण और पल्लवन जो इस सांस्कृतिक उत्सव “इंदौर का राजा ” में पूरा होता है |  वे विगत ४ वर्षों आयोजित करते आ रहे हैं , पहले वे इसे दशहरा मैदान पर करते थे , परन्तु अब से शहर के मध्य राजा की भूमि यानि गांधी हॉल पर “इंदौर का राजा “ के नाम से  यहीं होगा | 

.

३ 

सांस्कृतिक प्रस्तुतियां 

अदभुत सांस्कृतिक प्रस्तुतियां इस आयोजन में हो रही हैं , संगीत , नृत्य , ढोल ताशे , गायन , दिव्यांगो द्वारा अद्भुत व्हील चेयर डांस, कत्थक , वायलिन वादन और भी बहुत कुछ …भारत की सांस्कृतिक विरासत को बचाना और बढ़ाना आलोक दुबे फाउंडेशन का प्रमुख उद्देश्य है |

लाइव आरती

Image may contain: one or more people and text

सुविधाएं 

 

आलोक दुबे फाउंडेशन ने गणेश उत्सव की इस सांस्कृतिक परम्परा के स्तर को इतना ऊंचा , अच्छा और सिस्टम के साथ बनाया है कि यह किसी कोर्पोरेट इवेंट से कम नहीं अपितु ज्यादा ही पड़ता है |

निशुल्क व्यवस्थाएं :

  • पुलिस सहायता केंद्र
  • चिकित्सा टीम और डॉक्टर्स
  • व्हील् चेयर्स वृद्ध , दिव्यांग और रोगियों के लिए 
  • पानी की व्यवस्था , ताम्बे के लोटे के साथ
  • जूता-चप्पल स्टैंड  
  • लॉस्ट एंड फाउंड काउंटर  
  • सीसीटीवी कैमरा और सेक्युरिटी 
  • लाईट जानेपर जेनेरेटर बैकअप 
  • फायर एक्स्टिंगविशर , स्मोक डिटेक्टर्स  
  • सांस्कृतिक कार्यक्रम 
  • सेल्फी- फोटोग्राफी के लिए प्रॉप्स 
  • बैठने की व्यवस्था
  • वेबसाईट और फेसबुक पेज पर लाइव दर्शन और आरती 
  • सभी श्रद्धालुओं का व्यक्तिगत रु. १० करोड़ का बीमा आलोक दुबे फाउंडेशन ने करवाया है|

 

 

साफ़ – सुव्यवस्थित तरीके से लगातार दर्शन करने के लिए इन्होने अद्भुत व्यवस्था रखी है कि चाहे कितनी ही जनता आ जाये यहाँ ना तो अव्यवस्था होगी न ही कतार रुकती है | ज्यामितीय संरचना से गुज़रते हुए आप पहुँचते हैं एल भव्य पंडाल / दरबार में जहाँ विराजे हैं “इंदौर के राजा ”  |

 

५ 

अंगदान , रक्तदान और स्वच्छता के लिए अभियान 

अंगदान और रक्तदान के लिए फॉर्म्स और निशुल्क सदस्यता

विज्ञापनों – बैनर पोस्टर – फ़ूड स्टाल्स -मेला नहीं सिर्फ भक्ति 

“इंदौर का राजा ” के  प्रांगण गांधी हाल की बात करें तो आप पाएंगे कि यहाँ पर किसी कंपनी का कोई बैनर-पोस्टर नज़र नहीं आता , ना ही फ़ूड ज़ोन और झूले चाकरी ……. नजर आता है तो सिर्फ भव्य पांडाल सांवरिया सेठ की प्रतिकृति में और उसमे विराजे मिटटी के बने श्री गणेश .

.

पूरे परिवार के साथ लोग इस सुरक्षित , आध्यात्मिक और सांस्कृतिक माहौल में आ रहे हैं 

 

साथ ही अंग दान , रक्त दान , गरीबों को शिक्षा देने के लिए बनाये गए इस फाउंडेशन के लिए कृत संकल्प वोलंटियर्स जोप आपको इसं सभी के प्रति जागरूक करते हैं और अलोक दुबे फाउंडेशनसे जुड़कर इनके लिए प्रेरित करते हैं और साथ ही आप पाते हैं वर्ल्ड रिकॉर्ड अटेम्प्ट का एक सर्टिफिकेट , निशुल्क सदस्यता आलोक दुबे फाउंडेशन की भी 

 

 

कैसे जुड़ सकते हैं आलोक दुबे फाउंडेशन से :

आप यहाँ पर उपलब्द्ध वोलेंटियर्स से फॉर्म लेकर या टचस्क्रीन कियोस्क के माध्यम से अपनी जानकारी भर दें और आप इस NGO के सदस्य बन जायेंगे , जिससे की इस्नके द्वारा चलाये जा रहे सेवा प्रकल्पों में आप सदविव आमंत्रित और भागीदार होगे |

 

 

No automatic alt text available.

www.alokdubeyfoundation.org

पर लाग- इन करें और अपना निशुल्क सदस्यता फॉर्म भर दें 

वर्ल्ड रिकॉर्ड :

सभी आने वाले श्रद्धालुओं को यहाँ पर एक और उपलब्ब्धि होगी … बाप्पा के दर्शन और आशीर्वाद के बाद वे सभी एक वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बना रहे हैं और वह है सबसे भव्य “जीरो वेस्ट गणेशोत्सव” में भागी दारी का ….जब आप यहाँ आयेंगे तो आपको वर्ल्ड रिकॉर्ड एटेम्पट का प्रमाण पत्र भी मिलेगा | बच्चे , युवा और बड़े सभी इसमें बढ़ चढ़ कर अंगदान और रक्तदान के लिए रूचि दिखाकर संस्था के निशुल्क सदस्य बन रहे हैं | 

 

आलोक दूबे बताते हैं कि बप्पा या ईश्वर का निवास वहीँ है, जहाँ स्वछता है , इसीलिए उन्होंने जीरो वेस्ट पांडाल की परिकल्पना की 

 

प्रसाद :

एक और अद्भुत बात आलोक दुबे के हमें बताई कि उन्होंने बाप्पा के सभी भक्तों के लिए इस बार एक और निर्णय लिया है और वो है प्रसाद को सही और ज़रूरतमंद लोगों  तक पहुँचाना – इस हेतु उन्होंने सरकारी अस्पताल महाराजा यशवंत रॉ चिकित्सालय के रोगियों के साथ रुकने वालों और ज़रोरोअत मंदों को पूरे गणेशोत्सव के दौरान निशुल्क भोजन पहुंचाने का संकल्प लिया है | प्रसाद का सारा खर्च उन्ही की समर्पित कर बप्पा के आशीर्वाद  को जन जन तक पहुंचाने का नया तरीका अपनाया है , आलोक दुबे फाउंडेशन ने ….

 

तो देर ना करें इस शानदार आयोजन में सहभागी और साक्षी बने , वर्ल्ड रिकॉर्ड बनायें , बप्पा के सर्ष्ण करें और आलोक दुबे फाउंडेशन के अंगदान, रक्तदान और सामजिक कार्यों में हिस्सा लेकर इस अद्भुत आयोजन में सहभागी बने पूरे परिवार के साथ | 

Indore Ka Raja - Ganeshotsav

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

इंदौर एअरपोर्ट पे आने-जाने वाली सभी फ्लाइट्स का टाइमटेबल और जानकारी – देवी अहिल्याबाई होलकर एअरपोर्ट, इंदौर

Share this on WhatsApp #indoreairpirt #ahilyabaiairport #indoreflights इंदौर की /से  फ्लाईट्स | Flights from and …