Breaking News
Home / Indore / इंदौर कलेक्टर पी.नरहरि ने प्रोत्साहित करने हेतु दिखाई २५० लड़कियों को “दंगल” फिल्म

इंदौर कलेक्टर पी.नरहरि ने प्रोत्साहित करने हेतु दिखाई २५० लड़कियों को “दंगल” फिल्म

इंदौर कलेक्टर पी. नरहरि का एक और

सराहनीय और अनुकरणीय प्रयास 

रविवार सुबह करीब साढ़े बारह बजे कस्तूरबा गांधी होस्टल और बालिका होस्टल, राजेंद्रनगर से करीब ढाई सौ बच्चियों को स्कूल यूनिफॉर्म में  अपने साथ लेकर कलेक्टर पी. नरहरि ने बीआरटीएस स्थित मल्हार मेगा मॉल में गत दिनों रिलीज हुई आमिर खान की फिल्म दंगल रविवार को अपने साथ दिखाई। कलेक्टर का कहना है ये फिल्म प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ और लाडली लक्ष्मी योजना से काफी हद तक प्रेरित लगती है।

 

बच्चियों को ये फिल्म दिखाने का मकसद इन्हें जीवन में कुछ करने के लिए प्रेरित करना है, फिल्म से प्रेरणा लेकर शायद ये कुछ अच्छा कर सकें।  लेकर होस्टल वार्डन मॉल में पहुंचे। जहां कलेक्टर श्री नरहरि पहले से ही सपरिवार मौजूद थे। उन्होंने कुछ बच्चियों से बात भी की। बच्चियों ने प्रफुल्लित होकर कलेक्टर से कहा वे उनसे मिलकर बहुत खुश हैं क्योंकि उनकी वजह से ही वे पहली बार मॉल में आईं हैं अभी तक तो टीवी पर फिल्मों में ही उन्होंने ऐसा मॉल देखा था।

 

बालिका होस्टल राजेंद्रनगर की छात्र दीपिका मकासरे (8वीं) ने कहा फिल्म दंगल के बारे में अखबार में पढ़ा था लेकिन देखने को मिलेगी इसका नहीं सोचा था। फिल्म के बारे में दीपिका ने कहा लड़कियां इसमें पहलवान बनती है लड़कों से कुश्ती लड़ती है, इसलिए देखने में मजा आएगा। प्रियंका देवीसिंह (7वीं) ने कहा फिल्म के बारे में ज्यादा नहीं पता लेकिन टीचर बता रहे थे लड़कियों के पहलवान बनने पर फिल्म बनी है इसलिए देखने की इच्छा तो थी लेकिन फिल्म देखने आते

 

किसके साथ में?  फिर टिकिट के पैसे कौन देता?

इसी दौरान होस्टल में बताया गया हम सभी को क्रिसमस पर ये फिल्म दिखाने के लिए मॉल में लेकर जाएंगे, ऐसा कलेक्टर साहब ने फोन पर कहा है।

इस मौके पर कलेक्टर श्री नरहरि ने कहा दंगल फिल्म की कहानी लड़कियों के ग्रामीण परिवेश की हैं लेकिन इसमें बच्चियों ने लिंगभेद की मानसिकता से ऊपर उठकर ये दिखाने का प्रयास किया है लड़कियां भी लड़कों से कम नहीं हैं। इस फिल्म से समाज की मानसिकता बदलने में मदद मिलेगी।

इस फिल्म में प्रदेश सरकार की बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ तथा लाड़ली लक्ष्मी योजना की झलक मिलती है इससे हमारी दोनों योजनाएं किस कदर सफल हुई हैं इस पर भी मोहर लगती है। फिल्म के बारे में पढ़कर लगा जिले के होस्टल में रहनेवाली स्कूली बच्चियों को ये फिल्म क्रिसमस पर दिखाई जाए। जिससे उनको भी जीवन में कुछ बनने की प्रेरणा मिलेगी।

dangal

ये सोचकर हमने मॉल के संचालक से चर्चा की तो वे इसके लिए तैयार हो गए। मॉल के आशीष कंसल ने बताया जिस हॉल में बच्चियों ने फिल्म देखी है उसकी क्षमता 266 लोगों की। हमारे मॉल के लिए ये गौरव की बात है निराश्रित बच्चियों ने यहां आकर फिल्म का लुत्फ उठाया।

सभी बच्चों ने बड़े ही उत्साह से इस फिल्म का आनंद लिया …बहुत कम ही ऐसे सहृदय और संवेदनशील अधिकारी इंदौर में हुए हैं , धन्यवाद नरहरि जी , आप ऐसे ही कार्य करते रहे , हमारा सहयोग सदैव आपके सद्कार्यों में रहेगा |

आप पर हमेशा कली तरह हमें गर्व है …

 

Indore Ka Raja - Ganeshotsav

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

आमीर का “दंगल” – ज़बरदस्त फिल्म … इस साल की सबसे बड़ी सुपर-डुपर हिट फिल्म

Share this on WhatsApp खुद का खुद से दंगल  खुद से संघर्ष करके जीतने वाले …