Breaking News
Home / Culture / इंदौर का ईराक , उसके सद्दाम और धाँसू बमबारी ..जी हाँ इंदौर राईटर्स क्लब

इंदौर का ईराक , उसके सद्दाम और धाँसू बमबारी ..जी हाँ इंदौर राईटर्स क्लब

समीर शर्मा | इंदौर | इंडियन कॉफ़ी हाउस

इंदौर में इराक? 

…कॉफ़ी हाउस में हर ईतवार जमता हिंदी साहित्य और अनुभव का मजमा …

जी हाँ और इस  इराक में बांटती है खुशियाँ , लगते हैं कहकहे , कही और सुनी जाती  है कविता , कहा जाता है व्यंग , किस्सागोई और , सुनाया जाता  है वो इतिहास जो शायद किताबों न मिले….

और साथ में चाय पर ब्रेड -टोस्ट पे  जमती है शानदार महफ़िल …ये है  इंदौर राईटर्स क्लब जिसका शार्ट फॉर्म / संक्षिप्तीकरण है  इराक…

 

 

इन्डियन काफी हाउस  है ठिकाना ..

कॉफ़ी हाउस का रचनात्मकता से वैसा ही सम्बन्ध है जैसे किसी पौधे का उपजाऊ मिटटी से , ये वो माहौल है जहां दरख्तों की छाँव में नन्ही कोपलें पनपती हैं …अनुभवी, ज्ञानी और विद्वान् लोगों , लेखको, विचारकों, कवियों के बीच की बातचीत नए आ रहे युवा पत्रकारों, कवियों, लेखकों, विचारकों और भविष्य के नेतृत्व  के लिए  तैयार करता है | 

राजकुमार कुम्भज (अघोषित अध्यक्ष) , सरोज कुमार जी , जवाहर राठौड़, रोमेश जोशी, सुरेन्द्र यादव, सुभाष खंडेलवाल प्रकाश हिन्दुस्तानी , अश्विन जोशी , सी एस बिरथरे , शशिकांत गुप्ते , अर्जुन राठौड़ (एडमिन ) , डॉ स्वरुप वाजपेयी, तारीक़ शाहीन , शशीन्द्र जलधारीे, अशोक देवले, ब्रजेश कानूनगो, अभय नीमा , रवींद्र व्यास जैसे धुरंधर यहाँ बैठते हैं |

 

यहाँ हर रवीवार कमिश्नर ऑफिस के कॉफ़ी हाउस में फैमिली  केबिन में कब्ज़ा है इस क्लब का और होते हैं अद्भुत व्याख्यान , रचनाएं , प्रेजेंटेशन, कहानी, व्यंग पाठ , समीक्षाएं , हास्य और सुखों और दुखों में हिस्सेदारी …

 

यहाँ आलोक दुबे की फोटो प्रेसेंटेशन होती है तो रवींद्र व्यास की कविता भी , जवाहर राठौड़ और रोमेश जोशी के व्यंग और कुम्भज जी की कविता 

 

नई पुस्तकों पर चर्चा , भाषा के नए शब्दों पर संवाद और सामयिक मुद्दों पर भी शानदार शास्त्रार्थ होता है इन २ से ३ घंटों में में ..

 

नई प्रतिभाओं को भी मौक़ा दिया जाता है वे भी यहाँ पर अपनी प्रतिभा को प्रस्तुत कर सकते हैं, हर बार कोई न कोई नई साहित्यिक पेशकश से भरपूर और जिंदादिल महफ़िल का नाम है इंदौर राइटर्स क्लब …

 

 

कैसे शुरू हुआ और क्या उद्देश्य है ?

क्लब की शुरुआत समाज में व्याप्त संवादहीनता को समाप्त करने के लिए हुई । प्रारम्भ में कम साथी थे बाद में बढ़ते चले गये । क्लब की शुरुआत मई 2015 में हुई तब से लगातार सिलसिला जारी हे ।क्लब में सभी सदस्य मिलकर पेमेंट करते हें ।

 

अपने अनुभव की लाइब्रेरी से ये अपने ज्ञान को साझा करते हैं , वो निचोड़ जो ज़िन्दगी में इन्होने पाया है सहज भाव से युवाओं को मिलता है , इंदौर राइटर्स क्लब एक गुरुकुल है , आप चाहें तो सीखने और समझने जा सकते हैं , आपको मज़ा आ जाएगा , मैं तो जब भी इंदौर में हूँ ज़रूर जाता हूँ …

ये अनुभव  किसी किताब या इन्टरनेट पर नहीं मिलेगा …कभी भी नहीं …

मैं अर्जुन राठोड़ जी का ऋणी रहूंगा कि उन्होंने मुझे इतने अद्भुत समूह में आने का न्योता दिया और मैं इन दिग्गजों को सुन पाया और लगातार मिलता रहूंगा …

तो कुछ क्षण तो गुजारिये इंदौर के ईराक में 

 

 

समीर शर्मा 

 

 

Indore Ka Raja - Ganeshotsav

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com