Breaking News
Home / Culture / शहर की दीदी बनी मध्यप्रदेश का “गौरव” – जनक दीदी को म.प्र. गौरव सम्मान २०१७

शहर की दीदी बनी मध्यप्रदेश का “गौरव” – जनक दीदी को म.प्र. गौरव सम्मान २०१७

 

एक ओपन हार्ट सर्जरी से होश आने से जीने की राह शुरू की और आज सभी के हृदयों में बस गई –पद्मश्री जनक दीदी को मध्यप्रदेश सरकार ने इस वर्ष के मध्यप्रदेश गौरव सम्मान से नवाज़ा है ….पूरे इंदौर को इन पर नाज़ है …

 

 

 

 

कौन हैं पद्मश्री जनक दीदी  ?

डॉ श्रीमती जनक पलटा मगिलिगन एक भारतीय सामाजिक कार्यकर्ता है। जनक पलटा मगिलिगन एक बहाई हैं। वह इंदौर जिले के सनावदिया गाँव में स्थित जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट की संस्थापिका व निदेशिका है, जो कि गैर सरकारी संगठन है।

वह ग्रामीण महिलाओं के बारली विकास संस्थान के पूर्व निदेशक भी है।, जनक पलटा मगिलिगन का जन्म पंजाबी परिवार में हुआ था। उन्होंने मास्टर डिग्री (एमए) की अंग्रेजी साहित्य में और राजनीति विज्ञान मे। राजनीतिक विज्ञान में एमफिल की और “जनजातीय और ग्रामीण महिलाओं के प्रशिक्षण के माध्यम से सस्टेनेबल डेवलपमेंट ” में डॉक्टरेट की डिग्री (पीएचडी) प्राप्त की। जनक पलटा मगिलिगन जनक पलटा ने 26 वर्षों तक बरली ग्रामीण महिला विकास संस्थान के निदेशक के रूप में सेवा दी और इसी बरली संस्थान के निदेशक मंडल के संस्थापक निदेशक हैं और संस्थान के बोर्ड पिछले 32 वर्षों में सदस्य के रूप में सेवारत है।

वे बहाई धर्म की शिक्षाओं जैसे ईश्वर एक है, सभी धर्मों का स्त्रोत एक है , विश्व शांति और विश्व एकता के लिए कार्य कर रही हैं।

स्त्री पुरुष की समानता जैसी बहाई शिक्षाओं का प्रसार और महिला सशक्तिकरण करना उनका जीवन लक्ष्य है ।

कुछ प्रमुख कार्य जो जनक दीदी की पहचान है :

  • झाबुआ जिले के 302 गाँव नारुमुक्त  
  • मध्य भारत का सब से बडा  पहला  सोलर किचन- 1998 में स्थापित किया
  • बरली संस्थान में निदेशिका रहते हुए हज़ारों बच्चियों को प्रशिक्षित कर आत्मनिर्भर बनाया 
  • गाँवों में टॉयलेट्स बनवाये 
  • सोलर कुकिंग से रोज़गार आत्मनिर्भरता
  •  2007 में ब्रैस्ट कैन्सर हुआ पर उसी के लिए एक सपोर्ट ग्रुप “ संगिनी”  बना दिया
  • दुर्घटना में पति श्री  जिम्मी मगिलिगन को खोया और उन्ही की याद  में  जिम्मी मगिलिगन  सेंटर फार सस्टेनेबल डेवलपमेंट स्थापित किया 
  • हर होली पर ऑर्गेनिक कलर्स बनाने का प्रकल्प लाखों लीटर कलर न्बनाकर प्रकृति को सहेजती हैं 
  • ऑर्गेनिक फार्मिग और फार्मर्स को सपोर्ट करने के लिए जैविक सेतु बनाया 
  • देसी बीजों के लिए बीज बैंक की स्थापना 

Image may contain: 1 person, smiling, standing and outdoor

 

 

  • सोलर  कुकिंग के लिए विश्व व्यापी अभियान चला रही हैं 
  • एको फ्रेंडली जीवन जीना सीखाती हैं 
  • सैकड़ों बच्चे इंटर्नशिप पर आते रहते हैं और एक अद्भुत अनुभव लेकर जाते हैं 
  • नैतिक शिक्षा और आध्यात्म के लिए बहाई  शिक्षाओं को फैलाती हैं 
  • विशव एकता और शांति के लिए कार्य कर रही हैं | 
  • तालाब और जल स्त्रोत तथा वाटर हार्वेस्टिंग पर कार्य
  • महिलाओं के स्व -सहायता समूहों को प्रशिक्षण 
  • पूरे प्रदेश के कॉलेज , युन्वेर्सिटी और स्कूल्स के बच्चों को सस्टेनेबल डेवेलपमेंट का प्रशिक्षण और प्रेरणा  
  • यूनाइटेड नेशंस में भी भारत का प्रतिनिधित्व किया 

और भी कई प्रेरणास्पद कार्यों ने इन्हें सन्मान दिलाया , इनके कार्य ही इनकी पहचान है 

 

Image may contain: 8 people, people smiling, people sitting and people standing

 

जीवन में कई बार विषम परिस्थितियां भी आईं, लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी और समाज के पिछड़े तबके खासकर महिलाओं को आगे लाने के लिए सतत कार्य करती रहीं। सैकड़ों महिलाओं को उन्होंने निरक्षरता से मुक्ति दिलाकर आजादी के नए मायने दिए। 67 वर्ष की उम्र में भी वे इंदौर के समीप ग्राम सनावदिया में पूरी ऊर्जा के साथ समाजसेवा के कामों में संलग्न हैं।

मध्यप्रदेश गौरव सम्मान 

 

प्रिंसिपल सेक्रेटरी श्री मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि हर वर्ष समारोह में राज्य के गौरव के रूप में विभिन्न माध्यमों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों को सम्मानित किया जाता है।

जिसमें इस वर्ष अमृत लाल वेगड़, हरचंदन सिंह भट्टी, गुंदेचा बंधु और श्रीमती जनक पलटा को सम्मानित किया जाएगा। 

Image may contain: text

पूरे इंदौर की दीदी को शुभकामनाएं …

Indore Ka Raja - Ganeshotsav

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

कलियुग में सम्पूर्ण विश्व को एक करने वाले अवतार की घोषणा करने वाले अवतार महात्मा बाब का शहीदी दिवस ९ जुलाई को

Share this on WhatsApp ९ जुलाई को बहाई धर्म के अनुयायी ईश्वरीय अवतार महात्मा बाब …