Breaking News
Home / Indore / Achievement / आर्गेनिक कलर्स बनाना सीख कर, भर रहीं हैं महिला सशक्तिकरण का रंग इस होली पर : जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट सनावदिया इंदौर पर

आर्गेनिक कलर्स बनाना सीख कर, भर रहीं हैं महिला सशक्तिकरण का रंग इस होली पर : जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट सनावदिया इंदौर पर

समीर शर्मा | जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट | सनावदिया, इंदौर 

इंदौर में आर्गेनिक रंगों के साथ महिला सशक्तिकरण 

 

इंदौर के पास सनावदिया में स्थित  जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट पर जनक दीदी हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी होली की तैयारी में जुटी हुई हैं , मकसद है केमिकल रहित रंगों का निर्माण और स्वास्थ्य और पर्यावरण के अनुकूल रंग और त्यौहार को मानना ….

 

 

क्या है कार्यक्रम  ?

इस बार इस ऋतु पहला प्रशिक्षण ले रहीं हैं टीकम गढ़ से आई २० महिलायें जो की अपने जीवनयापन के लिए वो तकनीक इस सस्टेनेबल सेंटर से सीख रहीं हैं जो उन्हें आत्मनिर्भर तो बनाएगी ही साथ में पर्यावरण संरक्षण और सस्टेनेबल डेवलपमेंट भी …

 

पोई से होली के रंग, पारिजात , गेंदा से आर्गेनिक कलर्स , अम्बाडी का शरबत , सोलर कुकर पर बने समोसे , अखबार से ब्रिकेट्स  बनाना, बायो गैस कैसे काम करता है और इसे कैसे इस्तेमाल किया जाए ये सारी सस्टेनेबल डेवेलपमेंट की तकनीकें सीख रहीं है दूर दूर से आई महिलायें …

 

“स्त्री और पुरुष एक पक्षी के दो पंखों के सामान हैं ” – बहाई पवित्र लेख 

पद्मश्री जनक दीदी  कहती हैं की बिना स्त्री सशक्तिकरण के नए विश्व या रामराज्य की कल्पना नहीं की जा सकती है और उपरोक्त बहाई सिद्धांत को मानते हुए यह ज़रूरी है की समाज महिलाओं को सशक्त करने में हम सभी हरसंभव प्रयास करे, और यह उनके प्रयासों की श्रंखला का एक कार्यक्रम है , इसके लिए वे अपनी सेवाएँ निशुल्क प्रदान कर रहीं हैं |  

” सेवा ही सच्ची प्रार्थना  है” इसी बहाई सिद्धांत में उनका विश्वास है | 

“तेजस्विनी ग्रामीण महिला शशक्तिकरण कार्यक्रम ” नामक एक योजना के अंतर्गत आई इन महिलाओं को जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट , सनावादिया इंदौर  अपनी और से निशुल्क ट्रेनिंग दे रहा है |

जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट , सनावादिया इंदौर की जनक दीदी ,  श्रीमती नन्दा और श्री राजेन्द्र जी के सहयोग से इसका सञ्चालन किया जा रहा है |  

 

१५ फरवरी से ये महिलायें यहाँ पर सोलर कुकिंग, ऑर्गेनिक खेती , जल संरक्षण , ऑर्गेनिक खाना , ऑर्गेनिक रंग , बायो गैस इस्तेमाल और निर्माण आदि पर प्रशिक्षण ले रही है | भारत सरकार द्वारा संयोजित और  जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट द्वारा नि:शुल्क प्रशिक्षण इस शिविर में ये २० महिलायें सशक्त होकर अपने और समाज के जीवन को बदलने में सहायक होंगी और बनेगा  एक बेहतर समाज एक बेहतर संसार  ..

 

 

जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट द्वारा इंदौर के विभिन्न विशेषज्ञों को यहाँ पर इन महिलाओं को प्रशिक्षण देने हेतु आमंत्रित किया गया है और वे सभी निशुल्क अपनी सेवाएँ दे रहे हैं .

समीर शर्मा 

 

वामन हरी पेठे, इंदौर

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

बहाई धर्म के अवतारों का जयंती उत्सव – महात्मा बाब और बहाउल्लाह का जन्मदिवस

Share this on WhatsApp बहाई धर्म के अवतारों का जयंती उत्सव: बहाई धर्म, उन्नीसवीं सदी …

error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात