Breaking News
Home / Bahai / एक नंबर इंदौर के एक नंबर कलेक्टर : फिर किया प्रेरित …इंदौर का सलाम

एक नंबर इंदौर के एक नंबर कलेक्टर : फिर किया प्रेरित …इंदौर का सलाम

इंदौर कलेक्टर श्री पी नरहरी का

एक अनुकरणीय आचरण बना युवाओं की प्रेरणा ..

 

बहाई पवित्र लेखों में लिखा है कि  “यदि मनुष्य कर्मों को शब्दों का स्थान दें तो इस दुनिया की कठिनाईयां आनंद में बदल जायेंगी “ , और जब हम यह होते हुए देखते हैं तो सच में यह बहुत प्रेरित करता है और आपके विशवास को मजबूती देता है की “इस विश्व का उत्थान सर पवित्र और अच्छे कार्यों और अनुसरण करने योग्य आचरण से ही संभव है ” |

इस बहुत ज्यादा बोलने वाले शहर के एक शांत चित्त और एक एक बहुत भले व्यक्ति जो सौभाग्य से हमारे जिले के कलेक्टर भी हैं श्री पी नरहरी , ने फिर से इस शहर की जनता और विशेषकर युवाओं के लिए एक प्रेरणा का काम किया है |

narahariji

एक युवा ने जो ओहइंदौर.कॉम की रेगुलर विज़िटर हैं ,ने हमें यह पोस्ट लिखने को प्रेरित किया …

हुआ यूँ कि कलेक्टर साहब देपालपुर से दौरा कर आ रहे थे, रास्ते में शाम को यशवंत सागर तालाब के पास मोटर सायकल सवार मनोज सोलंकी निवासी उज्जैन घायल अवस्था में सड़क पर पड़ा था।

 जिसे  को देखकर कलेक्टर पी.नरहरि तत्काल रुके और जानकारी ली , उन्होंने  उन्होंने 108 एंबुलेंस के बारे में पूछा तो पता चला कि सूचना कर दी गई है लेकिन एंबुलेंस अभी तक नहीं आई…

…अब वे चाहते तो शायद अपने किसी अधिकारी को बोलकर जा भी सकते थे , परन्तु एक संवेदनशील और संस्कारी ह्रदय की पहचान इन्ही क्षणों में होती है ….उन्होंने एक मानव जीवन के साथ कोई समझौता नहीं किया और कलेक्टर ने तत्काल अपनी कार में घायल को अस्पताल के लिए रवाना कर दिया और खुद पैदल पैदल इंदौर रास्ते पर चल दिए।

घायल के सिर में चोट आई है। उसे एमवाय अस्पताल में भर्ती किया गया। सूचना के बाद घायल के परिजन भी अस्पताल पहुंचे।
 
अब बताईए और सोचिये यदि वह घायल  व्यक्ति हमारे परिवार का कोई सदस्य होता तो ? और अगर कोई अधिकारी निर्देश देकर चला जाता तो …  
इंदौर कलेक्टर ने अपनी गाड़ी रुकवाकर उसे उसे अस्पताल के लिए रवानागी दी। और जब उनका ड्रायवर घायल को पहुंचाने के बाद वापस कलेक्टर को लेने के लिए आया तब कहीं जाकर वो अपने मुकाम पर पहुंचे।
 
यह घटना युवाओं और नागरिकों को यह सीख देती है की किस तरह आपकी प्राथमिकताओं में मानवता सर्वोपरि है , नर सेवा ही नारायण सेवा क्यूँ है ….
 
 
मैंने स्वयं कई बार जनसुनवाई में इन्हें कार्य करते देखा है , ये झुंझलाते नहीं हैं , पूरी बात सुनते हैं , प्रशासन में होने के बाद भी इस व्यक्ति की संवेदनशीलता एक बच्चे की तरह बरकरार है , ये अद्भुत और अनुसरणीय है , यह एक व्यक्तिगत उपलब्द्धि है श्री नरहरी की ….
 
कलेक्टर बधाई के पात्र सिर्फ इसलिए नहीं की उन्होंने मदद की अपितु इसलिए भी की वह हमारे जिलाधीश हैं , वे युवाओं के उदाहरण हैं और उन्होंने मानव गुणों को अपनाया नहीं जी भी रहे हैं ….
 
लिविंग द लाइफ के उदाहरण श्री नरहरी को सिटी पोर्टल ओह!इंदौर का सलाम ….हैं ना एक नबर इंदौर के एक नंबर कलेक्टर 🙂
 
 
– समीर शर्मा,
Founder www.ohindore.com 
 

 

 

वामन हरी पेठे, इंदौर

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

इंदौर कलेक्टर पी.नरहरि ने प्रोत्साहित करने हेतु दिखाई २५० लड़कियों को “दंगल” फिल्म

Share this on WhatsApp इंदौर कलेक्टर पी. नरहरि का एक और सराहनीय और अनुकरणीय प्रयास  …

error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात