Breaking News
Home / Indore / इंदौर और आसपास के वाटर फॉल्स …परिवार और दोस्तों के साथ चलो घुमने, सूचनाऔर सावधानी के साथ

इंदौर और आसपास के वाटर फॉल्स …परिवार और दोस्तों के साथ चलो घुमने, सूचनाऔर सावधानी के साथ

सप्ताहांत में घूमना और तफरीह करना , मालवा में अब एक चलन हो गया है , उस पर बारिश तो फिर रुकना मुश्किल है …

पूरे देश में मालवा के जैसे मौसम का मज़ा कहीं नहीं …. इंदौर और उसके आसपास के वाटर फॉल /स्पॉट्स की बहुत ही उपयोगी जानकारी आपके साथ शेयर कर रहें हैं ओहइंदौर.कॉम की टीम ..

सबसे पहले तय करें जगह , और वो होती है कि आप किसके साथ और कितने टाइम के लिए जान चाहते हैं :

परिवार के साथ घूमने , ट्रेकिंग जाना  हो तो ये स्पॉट्स बेहतरीन हैं |

इस पोस्ट के फोटोग्राफ्स इंदौर के बलवंत अलावा , भरत बासवानी , प्रांशु दुबे, राजकुमार सैनी  जो की एक प्रोफेशनल फोटोग्राफर हैं , ने क्लिक किये हैं | इनका कम्पोजीशन इन फ़ोटोज़ को बेहतरीन बनाता है और हमें इंस्पायर करता है की इन जगहों पर इस सुहाने मौसम में ज़रूर देखा  जाए |

ये युवा फोटोग्राफर्स इन जगहों पर खुद जाते हैं , और साथ ही नयी अनएक्सप्लोर्ड जगहों को ढूंढने में माहिर हैं | इनके फोटोग्राफ्स कई बड़ी फोटो मैगजींस में छप चुके हैं |

इंदौर के आस-पास लगभग ६० किमी तक की इन जगहों पर आप पूरे परिवार या दोस्तों के साथ जाएँ , प्रकृति का आनंद लें | यहाँ पर कचरा ना फैलाएं , ना ही कोई शरारत या जोखिम लें , आपने पिछले सालों में देखा है की लगातार कुछ लोगों ने अपनी जिंदगियाँ  खोई हैं सिर्फ अपनी मनमानी और मूर्खता के चलते | इसलिए प्रकृति को दूर से निहारें , रिफ्रेश हों और सुरक्षित वापस आयें ….इसीलिए आपके लिए यह पोस्ट शेयर  कर रहा हूँ | 

 

चोरल गाँव – नदी  :

 

चोरल नदी 

.

इन्दोरीयों की पहली पसंद और सबसे पुराने पिकनिक स्पॉट में से एक है, चोरल नदी , चोरल गाँव पर यह स्पॉट आता है जो कि इंदौर से 40 किमी दूर स्थित है। यह
रास्ता बढ़िया है । यहां पहुंचने के लिए इंदौर से खंडवा रोड की ओर जाना होता है। चाय -पानी, ढाबा सब की व्यवस्था है |  शानदार घुमावदार घाटियों को पार करके पहुच्न्ह्ते हैं सुन्दर चोरल नदी तट पर , पहाडी नदी है और खतरनाक भी , इसलिए ज़रा संभल कर जाएँ , कही आसपास भी ,  कभी भी बारिश होने पर इसमें एकदम से पानी आता है कुछ सेकंड्स में यह लबालब हो जाती है , इसलिए बीच नदी में ना जाएँ |

बाकि किनारे पे बैठ कर इन अद्भुत दृश्यों का आनंद दोस्तों और परिवार के साथ लें | नदी में  न उतरें और पीने का पानी व खाने का सामान साथ ले जाएं। कचरा खुद इकट्ठा करके वापस ले आयें | मोबाईल नेटवर्क मिलता है |

choral
अत्यन्त सुन्दर चोरल नदी – फोटोग्राफ : बलवंत अलावा

.

पातालपानी :

इंदौर से इसकी दूरी करीब 30 किलोमीटर है। यहां जाने के लिए रास्ता महू से होकर जाता है। और दूसरा रास्ता महू-चोरल से आंबा चंदन गांव होते हुए जाता है, लेकिन यह रास्ता कच्चा एवं ऊबड़-खाबड़ होने से असुरक्षित है।

पतालपानी एक गहरा झरना है और पहाडी नदी पर आधारित है , बहुत ही असामयिक स्वभाव वाले इस झरने में पानी की आवाजाही बहुत ही अचानक और असामयिक होती है , कई लोग इसके शिकार हुए हैं अत: पर्याप्त रस्सी , साधन और संयम से यहाँ जाए और किनार पर खड़े रहे | इसके बीच में बैठना बहुत खतरनाक है | झरने में नीचे न उतरें और पीने का पानी व खाने का सामान साथ ले जाएं। कचरा खुद इकट्ठा करके वापस ले आयें | मोबाईल नेटवर्क मिलता है |

Pataalpani Water Fall, Images by Balwant Alawa

.

मेंहदी कुंड

महू के पास कोदरिया होते हुए एक रास्ता जाता है। इस कच्चे-पक्के रास्ते से वाहन लेकर सीधे यहां तक पहुंचा जा सकता है।

इंदौर से करीब 55 किलोमीटर दूर स्थित इस झरने तक पहुंचने के दो रास्ते हैं। वहीं दूसरा रास्ता बड़गोंदा से नखरी डेम होते हुए जाता है। यहाँ से  ट्रैकिंग करते हुए जाना पड़ेगा| 

झरने में नीचे न उतरें और पीने का पानी व खाने का सामान साथ ले जाएं। कचरा खुद इकट्ठा करके वापस ले आयें | मोबाईल नेटवर्क मुश्किल से मिलता है |

mehandikund
Mehandi Kund – By Anurag Soni

.

जोगी भड़क 

इंदौर से 55 किलोमीटर और मानपुर से 10 किमी आगे काफी ऊंचाई से यह झरना गिरता है। इंदौर से साउथ वेस्ट में लगभग 60 किलोमीटर दूर है। कार या बाइक से जा सकते हैं। इंदौर से ए बी रोड होते हुए मानपुर तक जाते हैं। घाट क्रॉस करते हैं। ढाल गांव आएगा। यहां से पश्चिम में एक कच्चा रास्ता जाता है।

 एक किलोमीटर चलने के बाद कार को साइड में पार्क कर दें ट्रैकिंग करते हुए एक किलोमीटर दूर नदी के पास पहुंच जाएं।

रास्ता मज़ेदार है। छोटी से हिल है फिर प्लेन ग्राउंड है। छोटे-छोटे तालाब भी हैं। रास्ते में खूबसूरत पक्षी मिलेंगे। अब आप झरने के करीब हैं इसका अंदाज़ा आपको पानी की आवाज़ से लगेगा। नदी का पाट बहुत चौड़ा है। काफी जगह है बैठने और पिकनिक के लिए। छाया थोड़ी कम है। नदी भी कहीं कहीं सेफ है।

पानी में पैर डालकर बैठ सकते हैं। झरना देखने के लिए ब्रिज क्रॉस कर के सामने के तरफ चढ़ना होगा और लगभग 1 किलोमीटर जाने के बाद एक बहुत ही जबरदस्त वॉटरफॉल दिखाई देता है।

वैली के बहुत पास न जाएं..सेफ्टी के लिए रैलिंग नहीं है। किनारे स्लिपरी हो जाते हैं। एडवेंचर कैम्प करनेवाले रिवर क्राॅसिंग कर सकते हैं। झरने में नीचे न उतरें और पीने का पानी व खाने का सामान साथ ले जाएं। कचरा खुद इकट्ठा करके वापस ले आयें | मोबाईल नेटवर्क मुश्किल से मिलता है |

 

jogibhadakbharat
भरत बासवानी का अद्भुत फोटोग्राफ – जोगी भड़क वाटर फॉल

.

गिदिया खोह

देवास जिले में पड़ने वाले इस वाटर फॉल तक जो की इंदौर से करीबन 45 किलोमीटर दूर स्थित है , गिदिया खोह तक डबल चौकी से सिवनी होते हुए पहुंचा जा सकता है। यहां भी काफी ऊंचाई से झरना गिरता है। यह एक कम एक्सप्लोर्ड झरना है पर बहुत खूबसूरत है | भरत के इन फोटोग्राफ्स से आप समझ ही सकते हैं  मोबाईल नेटवर्क मुश्किल से मिलता है |

Gidiyakhoh

गीडिया खोह – भरत बासवानी 

gidiyakhoh1

.

हत्यारी खोह

नाम पे ना जाईये , इंदौर से करीब 30 किलोमीटर दूर हत्यारी खोह नाम का ट्रैकिंग स्पॉट है। यहाँ  पहुंचने के लिए कंपेल से हुए तेलीया खेड़ी में वाहन खड़ा करके करीब १ किलोमीटर ऊबड़-खाबड़ रास्तों पर पैदल चलना होता है। बारिश में वैली के आसपास की जगह बहुत स्लिपरी हो जाती है। बहुत पास कतई न जाएं। प्रॉपर इक्विपमेंट्स के साथ और गाइडेंस में ही जाएं।

पिकनिक करना हो तो वैली पर नदी के पास बैठ सकते हैं। हालांकि छाया नहीं है और कोई सेफ्टी फैसिलिटीज भी नहीं है। रेलिंग और शेड की व्यवस्था भी यहां नहीं है। अगर आप छोटा टेंट ले जाएं तो ज्यादा देर तक बैठने का आनंद आएगा। बारिश में ऊपर से वैली में गिरते झरने की आवाज़ सुनना बहुत अच्छा लगता है। झरना, वैली और हरियाली एक साथ देखना अच्छा लगता है। खाने-पीने का सामान इंदौर से ही ले जाएं।  कचरा खुद इकट्ठा करके वापस ले आयें |

कहा जाता है कि राजे-रजवाड़ों के समय यहां कैदियों को सज़ा दी जाती थी इसीलिए इसका नाम पड़ा हत्यारी खोह। अगर एडवेंचरस ट्रेकिंग का शौक है तो यह जगह अच्छी है, लेकिन दो लोगों के बजाय ग्रुप में जाना बेहतर होगा। मोबाईल नेटवर्क मिलता है |

hatyarikhoh_balwant

पहला फोटो बलवंत अलावा और दूसरा भरत बासवानी से साभार 

hatyarikhoh1

.

बामनिया कुंड

इंदौर से करीब 35 किलोमीटर दूर पर बामनिया कुंड स्थित है। यहां पहुंचने के लिए कोदरिया से आगे बड़िया गांव होते हुए जाना होता है। यह भी ट्रैकिंग के लिए जाना जाता है। मोबाईल नेटवर्क नहीं मिलता है |

bamniya

.

मुहाड़ी वाटर फॉल 

तिल्लोर बजुर्ग के पास इंदौर से २६ किमी दूर वाटर फॉल की सुन्दरता अवर्णनीय है , बारिश में यह फाल अपने पूरे शबाब पर होता है | पूरे सुरक्षा के साथ और ग्रुप में जाईये और बैठकर इस झरने का आनंद लें | आपको शान्ति के साथ साथ प्राकृतिक नज़ारे एक दूसरी दुनिया में इ जाने के लिए काफी हैं |  मोबाईल नेटवर्क नहीं मिलता है |

Muhadi

बलवंत और भरत बासवानी के क्लिक्स 

Muhadi1

.

तिन्छा फॉल :

सबसे प्रसिद्द और नज़दीक पिकनिक स्पॉट्स में , तिंछा फॉल / वैली , इंदौर से करीब 25 किलोमीटर, दूर सिमरोल के पास बेहद खूबसूरत झरना है। खंडवा रोड स्थित इस झरने को देखने के लिए, स्वयं के वाहन से पहुंचा जा सकता है।

tinchha_shariqkhan

Photograph : Shariq Khan

सिमरोल होते हुए , लेफ्ट कट लेकर बड़ी वैली , जो चोरल नदी को अपने में लेकर जाती है , एक शानदार झरना ..इंदौर से लगभग ३० किमी 

सुविधा : पार्किंग की समस्या नहीं है , गार्ड तैनात है | पोलिस चौकी २ किमी दूर | मोबाईल नेटवर्क मिलता है | रास्ते में भुट्टे , भजिये मिलते हैं | कुच्छ जगह रेलिंग लगी हुई है |

चेतावनी : वीकेंड पे भीड़ , जवाहर मार्ग की तरह , खाने पीने का अच्छा  इंतज़ाम नहीं | सफाई नहीं | असामाजिक तत्व बीडी -सिगरेट ,दारू की बोतल मिलते हैं |

 मोबाईल नेटवर्क मिलता है |खाने-पीने का सामान इंदौर से ही ले जाएं।  कचरा खुद इकट्ठा करके वापस ले आयें |

.

सीतलामाता फॉल :

इंदौर से इसकी दूरी करीब 40 किलोमीटर है। यह A.B Road रोड पर पड़ता है। मानपुर से करीब 5 किलोमीटर अंदर जाना होता है। यहां पहुंचना आसान है| 

Photograph by : Raajkumar Saini, MHOW

.

गोलाकुंड वाटर फॉल 

सिमरोल से ६ किमी  दूर गोलाकुंड वाटर फॉल बहुत सुन्दर और आकर्षक एक छोटी नदी पर करके आप यहाँ पहुँच सकते हैं | प्रांशु दुबे ने यहाँ का एक शानदार ड्रोन वीडियो बनाया है |

 

विडिओ : प्रांशु दुबे , पिक्सेल डू 

.

तो ये थे कुछ बेहतरीन , सुन्दर और प्राकृतिक झरने अपने इंदौर के आस-पास के , आपसे एक विनती है , जब भी जाएँ सुर्ख्सा के साथ , एक रस्सी , खानेपीने का सामान , कम से कम पोलीथीन और परिवार के साथ जाएँ |

सेल्फी लेने के किसी भी जोखिम से बचे और बचाएं भी | शासन द्वारा कोई गार्ड हो तो उसकी बात माने और सहयोग करें | ना हो तो कोई भी जोखिम ना उठायें और साथ ही दुसरे लोगों के आनद में बाधा ना बने |

अल्कोहल, नशा या कचरा-गन्दगी  ना करें , जो भी कचरा हो तो उसे वापस लाये या दूसरों का कचरा भी हो तो उसे भी साफ़ कर लाएं | आप एक अच्छे और जिम्मेदार नागरिक हैं तो इस निवेदन को मानें | 

आप यदि इसकी फोटोग्राफ्स शेयर करेंगे की आपने एक प्राकृतिक स्थान को स्वच्छ रखा और कचरा प्रबंधन में मदद की, तो ओहइंदौर टीम आपको एक गिफ्ट- हैम्पर देंगे , और साथ ही आपकी फोटोग्राफ्स अपने फेसबुक पेज पर भी प्रकाशित कर आपका सम्मान करेगें | 

.

तो भिया चलो फिर , झरने देखने 😉

.- समीर शर्मा | 9755012734

Indore Ka Raja - Ganeshotsav

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com