Breaking News
Home / Events / Campaign / अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस – २१ जून – क्यूँ करें योग ?

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस – २१ जून – क्यूँ करें योग ?

योग के महान ग्रन्थ पतंजलि योग दर्शन में योग के बारे में कहा गया है :  

“ योगश्च चित्तवृत्ति निरोध” 

यानि मन की वृत्तियों पर नियंत्रण करना ही योग है|

 

दुनिया जब तक फायदे की बात ना हो तो कुछ  भी नहीं सुनती, भगवान् की भी  नही , अन्यथा , ईश्वर के अवतारों के स्वर्णिम गाथाओं और इतिहास से भरपूर मेरे भारतवर्ष में कोई दंगा, फसाद, रेप , अशांति और आतंकवाद नहीं होता | खैर ….फायदे की बात थी, तो पूरी दुनिया ने हमारे “योग” सिद्धांत को माना और २१ जून को विश्व योग दिवस के रूप में यूनाईटेड नेशंस के माध्यम से स्वीकृति दे दी | 

दुनिया भर में २० करोड़ से ज्यादा लोग योगा करते हैं रोजाना और उनमे से आधे भारतीय मूल के हैं |

yoga-day-flyer_23-2147517234

२१ जून को पूरी दुनिया में १९३ लघभग देशों में यह मनाया जाएगा | भारत में जोर-शोर से इसकी तैयारीयां हैं | आज योग के सबसे बड़े नाम बाबा रामदेव “पतंजलि वाले ” इसके लिए नई दिल्ली मे ३५ हज़ार से भी ज्यादा लोगों को एक साथ योग करवाएंगे | 

योग शब्द संस्कृत की ‘युज’ धातु से बना है जिसका अर्थ है जोड़ना यानि शरीर,मन और आत्मा को एक सूत्र में जोड़ना |

गीता  में कहा गया है – योग: कर्मसु कौशलम , यानि कर्मों में कौशल या दक्षता ही योग है।

योग सिद्धांत इतना चमत्कारिक है की इसे करने वाला तो लाभ में है ही साथ में इसे करवाने वाले भी | इसके वैज्ञानिक कारण जो आपको योग के प्रति आगे बढ़ाएंगे वो आपको पता होने ही चाहिए | यह हमारी संस्कृति है जो अबभी तक बची हुयी है…जानिए योग करने के तरीके …

yogaday1

ध्यान : 

योग में ध्यान का महत्व सबसे ज्यादा है , आप ध्यान सीखें , फिर करें , इससे आपके शरीर में सेरोटोनिन का लेवल बढ़ता है बिना कोई दवाई लिए यह हमारे कांफिडेंस को बढाता है और सोच पोजिटिव रखता है |

कैसे करें ध्यान : 

प्राणायाम :

प्राणायाम हमारी शाररिक संतुलन और स्वास्थय के लिए सबसे अच्छी गतिविधि है | हमारे फेफडो को मजबूती मिलती है | हम ज़्यादा ऑक्सीजन सोख पाते हैं जिससे हम युवा बने रह सकते हैं | सामान्यत: हम एक बार ५०० क्यूबिक सेमी हवा भर पाते हैं जब सांस लेते हैं, प्राणायाम के अनुलोम-विलोम पद्धति से हम ३००० क्यूबिक सेमी हवा तक लेते हैं जिससे हमारी कोशिकाए रिफ्रेश हो जाते हैं और स्वस्थ भी |

प्राणायाम विडिओ : 

योग शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ता है और दवाओं पर आपकी निर्भरता को घटता है।  बहुत सी स्टडीज में साबित हो चुका है कि अस्थमा , हाई ब्लड प्रेशर , टाइप २ डायबिटीज के मरीज योग द्वारा पूर्ण रूप से स्वस्थ हो चुके हैं।

सूर्य नमस्कार :

सूर्य नमस्कार 12 शक्तिशाली योग आसनों का एक समन्वय है, जो एक उत्तम कार्डियो-वॅस्क्युलर व्यायाम भी है। ‘सूर्य नमस्कार’ का शाब्दिक अर्थ सूर्य को अर्पण या नमस्कार करना है। यह योग आसन शरीर को सही आकार देने और मन को शांत व स्वस्थ रखने का उत्तम तरीका है।  सूर्य नमस्कार प्रातःकाल खाली पेट करना उचित होता है। आइए अपने अच्छे स्वास्थ्य के लिए सूर्य नमस्कार के इस सरल और प्रभावी आसनों को आरंभ करें।

 

योग से ब्लड शुगर का लेवल घटता है और ये LDL या बैड कोलेस्ट्रोल को भी कम करता है। डायबिटीज रोगियों के लिए योग बेहद फायदेमंद है|

सूर्या नमस्कार विडिओ :

इसके साथ ही किसी योग  शिक्षक से योग आसनों को करने का प्रशिक्षण लें और इसे जीवन का एक हिस्सा बनायें ! 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर आपभी योग करें और अपने जीवन को सवास्थ रखें !

इंदौर में नेहरु स्टेडियम में सुबह ६.३० से ८.१५ तक २१ जून को 

* उपरोक्त सभी विडिओ और टेक्स्ट इन्टरनेट के उचित और प्रामाणिक सोर्से से लिए गए हैं | सभी एजेंसीज़ और व्यक्तियों का आभार |

टीम ओहइंदौर !

Ohindore_Logo1

 

वामन हरी पेठे, इंदौर

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com
error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात