Breaking News
Home / Arts / अनोखा बुक बैंक – डोनेट ओल्ड बुक्स इनिशियेटिव

अनोखा बुक बैंक – डोनेट ओल्ड बुक्स इनिशियेटिव

पढ़ेगा इंडिया तभी तो बढेगा इंडिया – बुक डोनेशन इनिशियेटिव 

आईडिया 

क्या हम अपनी पुरानी बुक्स स किसी की मदद कर सकते हैं ? जी हाँ ..बिलकुल …

आपकी पुरानी किताबे , नोट्स काम आ सकती है किसी और साथी के ..कई स्टूडेंट्स इन महंगी बुक्स को खरीदने में अक्षम होते हैं और सिर्फ कुछ रुपयों की वजह से सही समय पर सही एजुकेशन से वंचित हो जाते हैं , जब हम अपने बच्चों को किसीभी तरह से पढ़ाने के लिए संघर्ष करते है तो “ईश्वर के बच्चों ” को कैसे देख सकते हैं बिना किताबों के , वः भी सिर्फ पैसे की कमी की वजह से … इसी विचार के साथ की कोई भी पर्तिभाशाली बच्चा या  साथी इस समस्या की वजह से एक सुनहरे भंविश्य से महरूम न हो जाए यह शुरुआत हुई है और प्रतिसाद अद्भुत  है इंदौर वासियों का  | 

क्या करना है : 

फर्स्ट से लेकर १२th  क्लास , पी ई टी , पी एम् टी , पी एस सी , पी ए टी , आई ए एस , बैंक पी ओ , इंजीनीयरींग , एम् बी ए और भी कई कोर्सेस और कोम्पीटिटिव एक्जाम्स की टेक्स्ट बुक्स , नोट्स , गाइड्स , रेफेरेन्स बुक्स का कलेक्शन किया जा रहा है और उसे एक साल के लिए इशु कर दिया जाएगा ज़रूरतमंदों विद्यार्थी को |

चैरिटी ट्रेकिंग :

इसकी जानकारी उस बुक को डोनेट करने वाले व्यक्ति को एस एम् एस से भेज दी जाएगी ताकि वह निश्चित रहे की उसके योगदान का सही उपयोग किया जा रहा है 

कैसे कर सकते है आप योगदान :

आप ohindore@gmail.com या  +91 -9575211114 – सुश्री शालिनी शर्मा (को-ऑर्डिनेटर)  फोन कर बुक्स पहुंचा सकते हैं | आपका योगदान विनम्रता और सहर्ष स्वीकार करके आपको एक रसीद दे दी जाएगी | आप बुक बैंक की जानकारी को लोगों तक पहुंचाए और बुक्स योगदान के लिए प्रेरित भी  करें.

 

donate_book

 

ध्यान रखने योग्य बातें 

१) बुक्स अच्छी हालत में हों और कवर चढ़ा हो |

२) आउट ऑफ़ कोर्स बुक्स न दें |

३) यह व्यवस्था निशुल्क है अत: कोई भी पैसे का लेन देन मान्य नहीं है | 

४) सोशल ग्रुप्स और एजुकेशनल इंस्टिट्यूट भी हमसे जुड़ सकते हैं | 

५) DYT  – डोनेट योर टाईम संस्था का नॉन प्रॉफिट मेकिंग प्रयास है |

आपके प्रयास से किसी के जीवन को सही शिक्षा सही समय पर मिल सकती है …..आईये हम सभी मिलकर इस अभियान को सफल बनायें . 

आप अपना प्लेज फॉर्म भी भर सकते है और आपके बच्चों की बुक्स एग्जाम के बाद हम एकत्रित कर लेंगे | 

 

“मनुष्य को गुणों की खान के सामान समझाना चाहिए और केवल शिक्षा ही उन गुणों को अनावृत कर सकती है और मानवजाति को लाभ पहुंचा सकते हैं |”

– बहाई पवित्र लेखों से 

 

टीम ओह इंदौर | ohind0re@gmail.com 

वामन हरी पेठे, इंदौर

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com
error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात