Breaking News
Home / Culture / महाशय जी का चिवडा और नमकीन -१०० साल की एक पुरातन नमकीन की दुकान

महाशय जी का चिवडा और नमकीन -१०० साल की एक पुरातन नमकीन की दुकान

समीर शर्मा | इंदौर | नमकीन | सेंव | चिवड़ा 

महाशयजी का प्रसिद्द चिवड़ा और नमकीन …इंदौर की पहचान …

.

आप यदि हाथ में नमकीन चिवड़ा (पोहे वाला ) लें और उसे दबाएँ , मसलें या पेपर पर रखे और उसमे से तेल का कोई नामोनिशान न हो , तो चौंकना लाजमी है | 

इंदौर में १०० वर्षों से एक परिवार (आर्य ) अपने प्रतिष्ठान “महाशय जी के नमकीन ” से इंदौर की शान बने हुए हैं| पुराने इंदौर के इलाके में स्थित , त्रिलोकचंद जैन स्कूल के सामने स्थित इस पुरातन दुकान को संभालने वाले चौथी पीढी के विवेक आर्य इसे बढाने में बखूबी लगे हुए हैं | हंसमुख और बढ़िया बाते करने वाले विवेक ने बताया की उनके दादाजी के पिताजी ने यह दुकान शुरू की थी | 

देवीदास जी आर्य , विद्याधर जी आर्य , अशोक आर्य और अब विवेक आर्य ….

1

.

विवेक बताते हैं कि बिना तेल का प्रसिद्ध् चिवडा जो पेपर पर रखने पर भी तेल नहीं छोड़ता है उनकी सीक्रेट रेसिपी है | स्वाद में भी इसका जोड़ नहीं | 

 

“लहसुन-परमल” का अविष्कार भी इन्होने ही किया जो अब मालवा ही नहीं पूरे देश  में प्रसिद्द है |

 

महाशयजी का प्रसिद्ध् चिवडा, लहसुन की सेंव, लौंग की सेंव , लहसुन परमल , मालवी गुड़ की सेंव (सिर्फ ३ महीने उपलबद्ध ठण्ड में ) , मालवी गुड़ से बनी मूगफली पट्टी , चटपटा चना , तीखा मिक्चर और भी कई लाजवाब और स्वाद वाले नमकीन यहाँ उपलब्द्ध हैं |

 

विवेक ने अपनी वेबसाईट भी बनाई है http://www.mahashayjinamkeen.com/ ……..आप चाहें तो विवेक से संपर्क करें : +91 98938 20703 

विवेक बड़े शौक से ग्राहकों को पहले इसका स्वाद चखाते हैं और फिर आदमी का उस स्वाद में फसना तो पक्का ही होता है , हमारे साथ भी यही हुआ | 

3

 

ये अपने मसाले खुद बनाते हैं और अपनी सीक्रेट रेसिपी से इसे जबरदस्त टेस्टी , हर इन्दोरी को तो पता ही है पर यदि कोई बाहर से आ रहा है तो इसे इनके नमकीन का गिफ्ट देना बनता है , यह दुकान इंदौर की खान-पान संकृति , सेंव-नमकीन का प्रमाण है , धरोहर है …महाशय जी , बनाते रहो ……

 

English Story about Mahashay ji : 

The beginning of big things is usually start small. A small business that was started 3 generations ago by Indore’s Arya family is not only continued but it has also taken new horizons. Arya family is one of the family that has been involved in making and selling of varieties of namkeen food products since four generations. Mr. Devidas Arya Ji and Mr. Durga Prasad Arya Ji are the who took this business to greater heights. We are continuously trying to give our best inputs so our business can set milestones.

Since four generations till Ashok Arya our namkeen business is showing exponential growth. Our crisp and crunchy delectable Chiwda named as “Mahashay Ji Ka Chiwda Bhandar” is very tasty. For the first time Mr. Devidas started “Pohe Chiwda” made by pure ground-nut’s oil and since then we are known as “Mahashay Ji ka Chiwda Bhandar”. Chiwda is exported in very large quantity from Madhya Pradesh.

For the first time in Indore crispy snack made from floor with flavor of garlic “Lahsun K Parmal” came into picture, which is not only liked by Indorians but it is also liked by nearby villages as well. Along with this for the first time “Meethi Sev” made by jiggery become famous in market. “Meethi Sev” is really very much popular among localities. People even used to carry “Chiwda” from indore to relatives living abroad.

 

समीर शर्मा | www.ohindore.com | ohindore@gmail.com | 9755012734 

 

वामन हरी पेठे, इंदौर

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

सिनेविजन अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह १ जून से : शानदार मूवीज देखने वालों का क्लब

Share this on WhatsApp . . मूवी क्लब ऑफ़ इंदौर “सिनेविज़न” सिनेविजन अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह …

error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात