Breaking News
Home / Culture / हेड साब के शाही पोहे- पनीर की उसल के साथ
Jpeg

हेड साब के शाही पोहे- पनीर की उसल के साथ

पोहे हों , उसमे सेंव-नुक्ती , कटे प्याज, जीरावन के साथ तो इन्दोरी को और क्या चाहिए , पर अगर गर्मागर्म ताज़ी पनीर की उसल , उसपे दही,  तो वो बनते हैं फेमस “हेड साब के पनीर उसल वाले पोहे ” 

आज बात करते हैं , पलासिया से आनंद बाज़ार जाने वाली सड़क पर , ग्रेटर कैलाश हॉस्पिटल के सामने लगने वाले एक छोटे से पोहे के ठिये की , जो आकार में छोटा है पर स्वाद में बड़े बड़ों की छुट्टी कर रखी है इन्होने …”हेड साब के शाही उसल वाले पोहे “

मात्र २० रु. में ज़बरदस्त स्वादिष्ट पोहे  , शानदार उसल , सेव् , प्याज़ , दही का अद्भुत कॉम्बिनेशन आपको बार बार आने पर मजबूर कर देगा …

भीड़ लगी रहती है , आपको २-५ मिनिट इंतज़ार करना पड़ सकता है , पर जब वो पोहे और पनीर साल से लबरेज़ (भरी) प्लेट आपके हाथ में आती है तो सच में लगता है कि दिन बन गया … 

पंकज पालीवाल , इसके युवा संचालक , बड़े ही सरल स्वभाव और मीठी  बोली वाले ….पंकज बताते हैं की सन 1983 में पिताजी ने रिटायरमेंट के बाद यह काम शुरू किया और आज वे इसे सफलता पूर्वक चला रहे हैं | विनोद दुआ , गुरपाल सिंह जैसे टीवी सेलेब्रिटीज़ ने इनके स्वाद को चखा , पसंद किया और नॅशनल टीवी पर कवर भी किया है | 

Jpeg
पंकज पालीवाल

सुबह ७.३० से ११ बजे तक सिर्फ तीन साढे  तीन घंटे के दौरान ५०० से ज्यादा प्लेट पोहे खिला देते हैं ये इंदौर को| 

पनीर उसल इन्होने ही शुरू की , वैसे उसल एक महाराष्ट्रीय व्यंजन है, पर जितने प्रयोग इंदौर में इसके स्वाद और रेसिपी में हुए उसने इसे गज़ब की प्रसिद्धि और मांग  वाला बना दिया है | 

पंकज पालीवाल बताते है की उनकी अधिकतर ग्राहकी रोज़ाना आने वाले ग्राहकों की है, और एक बार यह स्वाद आपकी ज़बान पर चढ़ जाए तो फिर भिया आदमी इस रोड के चक्कर काटता रहता है | 

रोजाना ताज़ी उसल बनाते हैं और इस सीक्रेट रेसिपी से इंदौर में वर्ल्ड फेमस हैं हेड साब के पोहे ..मुझे पहली बार मेरे मित्र लालू सर (एम.पी.सी.ए.) वालों ने इससे परिचित करवाया …

यहाँ कई बार हमने उन मायूस चेहरों को भी देखा, जिन्हे उसल- पोहा नहीं मिल पाया जो लेट हो गए और उन्होंने पनीर उसल और समय दोनों की ही कीमत जानी | 

Jpeg
हेड साब का ठिया

एक बार अवश्य टेस्ट कीजिये , टाईम का ध्यान रखिये , ज़रूर मिलेंगे “हेड साब के पोहे (पनीर वाले) “

वामन हरी पेठे, इंदौर

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com
error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात