Breaking News
Home / Arts / आमीर का “दंगल” – ज़बरदस्त फिल्म … इस साल की सबसे बड़ी सुपर-डुपर हिट फिल्म

आमीर का “दंगल” – ज़बरदस्त फिल्म … इस साल की सबसे बड़ी सुपर-डुपर हिट फिल्म

खुद का खुद से दंगल 

खुद से संघर्ष करके जीतने वाले लोग किसी से नहीं हारते- यही है आमीर का “दंगल”

खेल पर बहुत सारी फिल्में बनी हैं लेकिन ‘दंगल’ फिल्म सबसे अलग है. इसे फिल्म को ज्यादा फिल्मी ना बनाते हुए डायरेक्टर नितेश तिवारी ने इस तरह परदे पर उकेरा है कि हर सीन, हर एक्सप्रेशन, हर डायलॉग सब रियलिस्टिक लगते हैं. फिल्मी मसाला ना होते हुए भी दो घंटे 50 मिनट की ये फिल्म आपको बांधे रखती है. फिल्म के हर सिचुएशन के साथ आप खुद को जोड़कर देखने लगते हैं. फिल्म में कॉमिक टाइमिंग इतनी सटीक है कि आप हंसते भी हैं और इमोशनल सीन में रोते भी हैं.

इमोशन, एक्शन, फैमिली और ड्रामे से एक कदम आगे यह देशभक्ति के जज्बे तक जाती है और अंत में जयोल्लास को समर्पित राष्ट्रगान की धुन बजती है तो आप सीट छोड़ सावधान की मुद्रा में खड़े होकर तिरंगे को सलाम करते हैं।

 

कुछ ऐसे शॉट्स हैं कि आपकी सांसे थम जाती हैं!

फिल्म में रेसलिंग के कुछ ऐसे सीन हैं, शॉट्स हैं, जिन्हें देखते समय आप अपनी सांसे रोक लेते हैं. फिल्म के एक सीन में दिखाया गया है कि  महावीर सिंह फोगट (जिन की यह बायोपिक है ) और उनकी बेटी गीता के बीच अहं आ जाता है और दोनों कुश्ती लड़ते हैं. ये सीन बहुत ही इमोशनल और आंखों में आंसू ला देने वाला है. ऐसे ही फिल्म में रेसलिंग के कई सीन हैं जो दर्शक दिल थाम कर देखने को मजूबर हो जाता है.

 

ख़ास बात 

इसके फिल्माने का कार्य 1 सितंबर 2015 से शुरू हुआ। इस फिल्म के स्थल को लुधियाना के गांवों में रखा गया और उसे हरियाणवी रूप दिया गया। इसके बाद फिल्माने का कार्य किला रायपुर, पंजाब और हरियाणा में किया गया। सितंबर 2015 और दिसंबर 2015 के मध्य आमिर खान ने अपना 9% चर्बी बढ़ा कर अपना वजन 98 किलो कर दिया।

 

स्क्रीनप्ले 

‘दंगल’ की सबसे अच्‍छी बात यह है कि इसे बेहतरीन ढंग से लिखा गया है। डायरेक्‍टर नितेश तिवारी, पीयूष गुप्‍ता, श्रेया जैन और निखिल मल्‍होत्रा इस मायने में प्रशंसा के पात्र हैं। पर्दे पर हमें क्षेत्रीय पुट के साथ हंसी ठिठोली और बाप-बेटियों के बीच कई दिल को छू लेने वाली भावनाओं और दृश्‍यों को जीने का मौका मिलता है। हालांकि, हरियाणी बोली के कारण कई मौकों पर शब्‍दों को समझने में दिक्‍कत होती है, लेकिन बेटों की चाहत को लेकर हमारी सोच, खेल के प्रति प्रशासन का दयनीय बर्ताव सहज भाव में स्‍पष्‍ट हैं।

 

फातिमा और सना, गीता और बबीता के रोल के लिए सबसे फिट हैं। इसमें कोई दोराय नहीं कि उनसे बेहतर यह रोल फिलहाल कोई करता नहीं दिख रहा।

 

आखिर फिल्म क्यों देखें?

फिल्म में आमिर खान ने यंग और ओल्ड, महावीर सिंह के दोनों किरदारों को बहुत ही उम्दा तरीके से निभाया  है. उनकी बेटियों के रूप में फातिमा सना शेख, सान्या मल्होत्रा, जायरा वसीम और सुहानी भटनागर ने भी सुपर परफॉर्मेंस दी है. साक्षी तंवर के साथ-साथ अपारशक्ति खुराना का परफॉर्मेंस भी सहज है. शॉर्ट में कहें तो परफेक्ट कास्टिंग की गई है.

ये फिल्म इतनी अच्छी क्यूँ है ? यह आपको थियेटर से निकलते वक्त हुए अहसास से ही समझ में आयेगा ….ज़रूर जाएँ सिर्फ देखने “दंगल” 

 

– Ohindore.com

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com