Breaking News
Home / Latest in Indore / Movie Review : TITLI, Guddu ki gun, Main aur Charls ,ज़बरदस्त है तितली , चौंका देगी इसकी कहानी

Movie Review : TITLI, Guddu ki gun, Main aur Charls ,ज़बरदस्त है तितली , चौंका देगी इसकी कहानी

Film Reviews: Titli, Mai aur Charlse, Guddu Ki Gun…
Best Movie to watch this week is Titali:
ज़बरदस्त है तितली , चौंका  देगी इसकी कहानी 
कान, बीजिंग, लंदन, लॉस ऐंजिल्स, ज्यूरिख और हैमबर्ग जैसे करीब दो दर्जन फिल्म समारोहों में शिरकत कर लगभग एक दर्जन अवॉर्ड्स समेट कर लाई फिल्म ‘तितलि’ की कहानी और इसके किरदार चौंकाते हैं। इसकी एक बड़ी वजह है कि ये किरदार अपने आस-पास के ही लगते हैं। हो सकता है कि ऐसे किरदारों से किसी का पाला न पड़ा हो, वास्ता न पड़ा हो, लेकिन आप इन्हें पूरी तरह से किनारे नहीं कर सकते। एक बेरोजगार युवा अपनी नई-नवेली दुल्हन का हाथ पहले इंजेक्शन से सुन्न करता और फिर हथौड़ी से उसकी कलाई तोड़ देता है।

कनु बहल की ओर से लिखी हुई और निर्देशित की गई ‘तितली’ एक ऐसी फिल्म है जिसे दिमाग से निकाल पाना बेहद मुश्किल है। महज फिल्म में होने वाली क्रूरता ही नहीं बल्कि फिल्म की कास्ट का शानदार अभिनय और हिंसा के बीच पनप रहे एक परिवार की तस्वीर भी झकझोर के रख देती है।

ईस्ट दिल्ली के एक टूटे-फूटे घर में अपने पिता के साथ रह रहे तीन भाइयों में सबसे छोटे भाई तितली के किरदार में है शंशाक अरोड़ा। तितली परिवार के हिंसात्मक जिंदगी को छोड़ के भाग जाना चाहता है। सबसे बड़ा भाई विक्रम यानी रणबीर शोरे गर्मदिमाग है जो बात-बात पर क्रूरता पर उतर आता है। मंझला भाई बावला यानि अमित सिआल विक्रम के मुकाबले थोड़ा ठंडे दिमाग को है पर विक्रम के प्रति वफादार है। हाथ मे हथौड़ा लिए दोनों भाई, अक्सर हाइवे पर लोगों की गाड़ियों को रोक कर उन्हें लूटते हैं और अक्सर छोटा भाई उन्हें इस काम मे मदद करता है।

 

TitaliMovie_ohindore4
 
Titli is a 2015 Bollywood drama film written and directed by Kanu Behl, co-produced by Dibakar Banerjee Productions Pvt. Ltd and Aditya Chopra under the banner of Yash Raj Films. Director Kanu bahal has done a great job ,. 4/5 rating …A must watch movie. ज़रूर देखें तितली …
 
मूवी नं : 2 मै और चार्ल्स 
महाठग चार्ल्स शोभराज के जीवन पर बनी इस मूवी को एक बार देखा जा सकता है | हमने चार्ल्स के कई पहलुओं को परदे पर देखा तो सही मगर कहीं न कहीं, कहानी या उसका बहाव दिल को नहीं छू रहा था। अगर फिल्‍म को स्टाइलिश बनाने से ज्‍यादा इसकी पटकथा पर ध्यान दिया गया होता तो बेहतर होता क्योंकि शोभराज की कहानी तो हम गूगल में भी पढ़ चुके हैं और पढ़ सकते हैं। मेरे नजरिये से ये एवरेज कहानी और स्क्रीनप्ले के साथ एक स्टाइलिश फिल्‍म है इसलिए मेरी तरफ़ से इस फिल्‍म को 2.5 स्टार्स।
main-aur-charles-ohindore
 
चार्ल्स शोभराज की जिन्दगी को परदे पर रणदीप हुड्डा ने बेहतरीन तरीक़े से जिया है। उन्‍होंने जिस तरह चार्ल्स के हावभाव को पकड़ा है और चार्ल्स के अंदाज में बातचीत का लहजा दिखाया है वो बेहतरीन है।निर्देशक प्रवाल रमन ने बहुत ही स्टाइलिश फिल्‍म बनाने की कोशिश की है और उसमें बहुत हद तक वे कामयाब हुए हैं। मगर मेरे नज़रिये से कहीं न कहीं वही प्रयोग इस फिल्‍म को थोड़ा कमजोर भी कर रहा है। कहानी बहुत ही तेजी से रुख बदलती है। इतनी जल्दी-जल्दी फिल्‍म फ्लैशबैक में जाती है कि कंफ्यूजन होने लगता है।
 
मूवी नं. ३ 
 
गुड्डू की गन 

एक एडल्ट कॉमेडी है गुड्डू की गन |फिल्म को एक ‘सेक्स कॉमेडी’ कहा गया है. लेकिन मुश्किल से एक-दो सीन ही ऐसे थे जो इस विधा को न्यायसंगत कर रहे थे. डायरेक्टर की कोशिश थी की काल्पनिक किरदार को कामुक दिखाया जाए जो हो ना सका. इंटरवल के बाद तो यह फिल्म और भी दिशाहीन हो जाती है. अचानक से रोमांस और प्यार की तरफ अग्रसित होने लगती है. स्क्रिप्ट को और भी बेहतर लिखा जा सकता था. इस फिल्म में ऐसा कुछ भी नहीं है जो आपको बांध कर रख सके. कई सीक्वेंस ऐसे हैं जो जबरदस्ती फिट किए हुए लगते हैं.

क्यों देखें
कुणाल खेमू ने बिहारी का किरदार निभाने की कोशिश की है जो ठीक ठाक ही है. सुमित व्यास और पायल ने भी अच्छा काम किया है. अगर आप कुनाल खेमू के दीवाने हैं और साथ में एडल्ट हैं तो ही ये फिल्म देखें नहीं तो पैसे जरूर बचाएं.

guddukigun

 
Indore Ka Raja - Ganeshotsav

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

ए दिल है मुश्किल : सुन्दर लोकेशन, सुन्दर चेहरों वाली एक रोमांटिक मूवी

Share this on WhatsApp Indore | 28th Occtober ए दिल है मुश्किल : रिव्यू  अगर …