Breaking News
Home / Indori / इंदौर के सुशील दोषी को पद्मश्री सम्मान

इंदौर के सुशील दोषी को पद्मश्री सम्मान

आप सुन रहें है इस मैच का आँखों देखा हाल , सुशील दोषी से …..हिन्दी के कन्धों पर सवार होकर ही क्रिकेट ने पूरे भारत में लोकप्रियता हासिल की है. रेडियो पर हिन्दी कमेंट्री सुनकर लोगों के मन में इस खेल के प्रति रूचि जगी जो बाद में दीवानगी में बदल गई|

आज भारत सरकार ने देश के ११२ लोगों में से एक श्री दोषी को पध्म्श्री सन्मान से नवाज़ा है जो देश और हमारे शहर इंदौर के लिए गौरव का विषय है ….

इंदौर के जावरा कम्पाउंड में रहने वाले सरल और संयमित दोषी जी अपने आप में एक उदाहरण है की किसी भी कार्य को यदि दिल से किया जाये तो वह आपको शीर्ष पर ले जाता है | 
श्री सुशील दोषी , हिन्दी में क्रिकेट का आँखों देखा हाल (कमेंटरी) सुनाने के लिये प्रसिद्ध हैं। उन्होने ३०० से अधिक एकदिवसीय क्रिकेट मैच, ६० से अधिक टेस्ट मैच, नौ क्रिकेट विश्व कप में क्रिकेट का आंखों देखा हाल सुनाया है। इसके अलावा उन्होने टेनिसऔर टेबल टेनिस के खेल का आंखों देखा हाल भी सुनाया है। क्रिकेट की कमेंटरी को मध्यम बनाकर क्रिकेट को जन-जन तक पहुँचाने का काम सुशील दोषी ने किया है। मध्य प्रदेश क्रिकेट असोसियेशन के सक्रिय सदस्य श्री दोषी ने समय के साथ हिनदि कमेंट्री को एक नए आयाम तक पहुंचाया | 

उनका जन्म इन्दौर में हुआ। सुशील दोषी ने क्रिकेट की कमेंटरी हिन्दी में शुरू की तब लोग उन पर हँसते थे और कहते थी की क्रिकेट तो अँग्रेजों का खेल है उसकी कमेंटरी हिन्दी में कैसे होगी? लेकिन जब सुशील दोषी ने हिन्दी में अपने शब्द और अपनी शैली विकसित कर ली तब उनके नाम का डंका बजाने लगा। धर्मयुग के संपादक डॉ. धर्मवीर भारती की राय उनके बारे में यह थी कि सुशील दोषी ने क्रिकेट के बहाने हिन्दी की बहुत बड़ी सेवा की है और वे जितने बड़े सेवक क्रिकेट के हैं, उससे बड़े सेवक हिन्दी के हैं। इंदौर के होलकर क्रिकेट स्टेडियम के कमेंटरी बॉक्स का नाम सुशील दोषी के नाम पर रखा गया है।

सुशील दोषी जी मीडिया से  कहा कि यह हिदी भाषा का सम्‍मान और गौरव है। उन्‍होंने कहा कि अंग्रेजी के वर्चस्‍व के बीच अपनी पहचान बनाना सुखद है। इस पुरस्‍कार से दूसरे लोगों को प्रेरणा मिलेगी। पुरस्‍कार मिलना सिद्ध करता है कि देश में हिंदी का वर्चस्‍व बढ़ रहा है। उन्‍होंने कहा कि यह सम्‍मान लोगों के प्‍यार और हिंदी की सेवा का प्रतिफल है।

 

बधाई सुशील जी !

वामन हरी पेठे, इंदौर

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

भारतीय नववर्ष आज : जाने अपने भारत देश के नववर्ष : चैत्र प्रतिपदा / गुडी पडवा या उगादी के बारे में 

Share this on WhatsApp भारतीय नव वर्ष  चैत्र ही एक ऐसा माह है जिसमें वृक्ष …

error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात