Breaking News
Home / Events / Festival / सितोलिया SSSSSSS

सितोलिया SSSSSSS

गली का सितोलिया चला नेशनल खेल की लिस्ट में  
 
सत्तम सितोलिया अब लागोरी के नाम से जाना जाएगा और गली-मोहल्लों से निकल पर प्रदेश स्तर पर आ चुका है। यह खेल अब स्कूलों में खेला जाएगा और अगले वर्ष प्रदेश में ही इसका नेशनल टूर्नामेंट आयोजित किया जाएगा। इसके लिए नियम भी बन चुके हैं। गत माह प्रदेशभर के सितोलिया  की तीन दिवसीय ट्रेनिंग भोपाल में आयोजित हो चुकी है। सितोलिया खेल सदियों से हमारे यहां खेला जाता रहा है। अलग-अलग जगह पर इसे सत्तम सितोलिया, पिट्टू, ढब्बा खाली, गिट्टी फोड़ आदि नामों से जाना जाता है।
 
स्कूल शिक्षा विभाग ने मप्र लागोरी एसोसिएशन के माध्यम से नेशनल टूर्नामेंट आयोजित करने के लिए आगरा स्थित स्कूल्स गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया को प्रपोजल भेजा है। संभवत: अगले वर्ष के फरवरी माह मप्र में देश का पहला लागोरी नेशनल टूर्नामेंट हो सकता है। मप्र लागोरी एसोसिएशन के सचिव गुलाब सिंह चौहान ने बताया कि पिछले माह 28 से 30 अक्टूबर तक शिक्षा विभाग के खेल विभाग ने ट्रेनिंग का आयोजन किया था। जिसमें प्रदेश सहित 13 राज्यों के लागोरी ट्रेनर शामिल हुए थे।
 
 
फ्री जोन होता है 3 फीट
 
इस खेल के लिए 2010 में नियम बनाए गए थे। इन्हीें नियमों के साथ इस खेल को शुरू किया जा रहा है। सितोलिया पत्थर की जगह लकड़ी की होगी और सितोलिया फोडऩे वाले को सिकर कहा जाएगा। इसी तरह सितोलिया के पीछे खड़े होने वाले को केचर और टीम को हिटर कहा जाएगा। एक सेट तीन मिनट का होता है।  सिकर और सतोलिया के बीच की दूरी 10.5 फिट होती है। 3 फीट फ्री जोन होता है। ग्रांउड 81 फीट लंबा 45 फीट चौड़ा रहता है। यह देश के सभी हिस्सों में खेला जाता है और 28 देशों  में देखा जाता है। असल में 2013 में मुबंई के एक एसोसिएशन ने इसकी शुरुआत की थी। इसके बाद महाराष्ट्र के सरकारी स्कूलों में इसको खिलाया जाने लगा है। 
sitolya1
 
 
हर जिले में ग्राउंड
 
लागोरी के लिए प्रदेश के जिलों में अलग से ग्राडंड बनाए जाने हैं। इंदौर में शासकीय माध्यमिक विद्यालय अहिल्या पल्टन और मॉडल स्कूल गांधी नगर में ग्राउंड बनाना प्रस्तावित है।
 

इंटनेशनल लगोरी फेडरेशन की स्थापना 2010 में हुई। इसमें 17 देश के सदस्य शामिल हुए। 2012 में पहला इंटरनेशन लगोरी चैम्पियनशिप भूटान में हुई। एम्च्योर लगोरी फेडरेशन ऑफ इंडिया 2006 में बना था। यह पिछले कई वर्षों से इस खेल की ओपन चैम्पियशिप करवा रहा है। आईपीएल क्रिकेट की तर्ज पर आईपीएल लगोरी 25 से 30 जनवरी 2015 को वीजापुर (कर्नाटक) में हुआ। दिसंबर-2015 में मुंबई में लगोरी वर्ल्डकप आयोजन होना है। इसमें 30 देश के खिलाड़ी शामिल होंगे। 2014 में मप्र लगोरी फेडरेशन की स्थापना हुई।सितोलिया को स्कूल खेल में जोड़ा जा चुका है। सितोलिया को लेकर महाराष्ट्र में जो नियम बनाए गए हैं, उन्हें ही शामिल किया गया है। इसलिए नाम लागोरी दिया गया है। नेशनल टूर्नामेंट को लेकर अभी तारीख तय नहीं हुई। जल्द ही टूर्नामेंट कार्यक्रम बन जाएगा। शैक्षणिक कैलेंडर में इसे जोड़ दिया जाएगा।

देश-विदेश में भी लोकप्रिय

गली मोहल्लों में अक्सर बच्चे दो टीम बनाकर इस खेलते हैं। सात-आठ पत्थरों को एक के ऊपर एक रख कपड़े, प्लास्टिक व टेनिस के बॉल से गिराकर उसे फिर से जमाते हैं। इस खेल को मप्र मे सितोलिया के नाम से पहचाना जाता है। देश के अधिकांश राज्यों में बच्चे व युवा इसे खेलते हैं। एक टीम सितोलिया को गिराकर उसे जमाती है, तो दूसरी उसे रोकने व आउट करने की कोशिश करती है। यह खेल विदेशों में भी खेला जाता है।

सितोलिया के कई नाम

मप्र- सितोलिया

महाराष्ट्र-लिगोरच्या(लगोरी)

हरियाणा-पिट्ठू

आंध्रप्रदेश-येदु पेनकुलाटा, डिकोरी

केरल-डब्बा कली

तमिलनाडु- एजहू कालू

इरान- 7 सेंग

कनाडा-टिलो

पाकिस्तान-पिट्ठो गरम

नेपाल- सेवन टिलो

बांग्‍लादेश-सत चारा

अफगानिस्तान-सेंट्राकोन

नौ स्टेपर व टेनिस बॉल से होगा खेल

19 साल तक बालक व बालिका वर्ग के लिए यह प्रतियोगिता होगी। प्लास्टिक या लकड़ी के नौ स्टेपर व टेनिस बॉल से सितोलिया खेला जाएगा। इस खेल के लिए नियम भी तैयार हो गए हैं। एक टीम में 12 खिलाड़ी होंगे। 6 मैदान में खेलेंगे, 6 एक्स्ट्रा रहेंगे।

ये होंगे नियम

– 81 बाई 45 फीट का समतल खेल मैदान होना चाहिए।

-इस मैदान के चारों ओर नेट लगी हो ताकि गेंद बाहर न जाए।

-टेनिस बॉल का वजन 75 से 85 ग्राम और गोलाई 210 मिमी से 230 मिमी हो।

-1 से 9 तक फाइबर या लकड़ी की सितोलिया हो। इनकी हाइट 291 मिमी होना चाहिए।

-इसमें दो रैफरी , एक चीफ रैफरी व दो लाइनमैन रहेंगे।

-रैफरी खिलाड़ी को धक्का देने या खेल के दौरान गलत व्यवहार करने पर रेड व यलो कार्ड जारी कर सकेंगे।

-मैच के दौरान टीम के खिलाड़ी को बदला जा सकेगा।

-सितोलिया को गिराने के बाद उसे तीन मिनट में जमाना होगा।

-कोई भी खिलाड़ी टेनिस बॉल को 30 सेकेंड से ज्यादा देर अपने पास होल्ड कर नहीं रख सकेगा।

-खिलाड़ी टीशर्ट-शर्ट में खेलेंगे।

 

Indore Ka Raja - Ganeshotsav

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

कॉफ़ी का मौसम , इंदौर के टॉप ५ कॉफ़ी हाउस और कैफ़े, A lot can happen over Coffee…

Share this on WhatsApp . कॉफ़ी ….सुनते ही सफ़ेद कप में महके हुए कहवे की …