Breaking News
Home / Lifestyle / Electronics / अपग्रेड लैपटॉप – सिर्फ एक चेंज से अपने लैपटॉप/ डेस्कटॉप को बनाये सुपर फ़ास्ट एसएसडी ड्राइव से

अपग्रेड लैपटॉप – सिर्फ एक चेंज से अपने लैपटॉप/ डेस्कटॉप को बनाये सुपर फ़ास्ट एसएसडी ड्राइव से

sam
Sameer Sharma

 जानिए कैसे आप  अपने लैपटॉप को अपग्रेड कर सकते हैं

माइक्रोसॉफ्ट. ओरेकल, सिस्को  सर्टिफाइड आई टी एक्सपर्ट समीर शर्मा से |

sameer@ds-india.com 

 

 

 

लैपटॉप आपका पर्सनल हो या कंपनी द्वारा दिया गया , यूज़ तो आपको करना है और अगर उसके परफोर्मेंस में कोई परेशानी है तो वह आपकी परेशानी ही है | 

आज आप कुछ पेरिफेरल्स (कंप्यूटर पार्ट्स) को अपग्रेड करके इससे अपने लैपटॉप को कई गुना , यकीं मानिए कई गुना तेज़ कर लेंगे  हांलांकि लैपटॉप में इस तरह के अपग्रेड ऑप्शंस बहुत सीमित हैं फिर भी कुछ बेहद इम्पोर्टेंट पार्ट्स हैं, जिनका अपग्रेड संभव है | 

यह ड्राइव  डिजाइन इंडस्ट्री, कैड- कैम , फोटोशॉप, कोरल-ड्रा, गेमिंग वाले पीसीज और लैपटॉप के लिए वरदान है |

 

स्टोरेज ड्राइव / हार्ड डिस्क 

इसके टाइप्स :

एच डी डी 

लैपटॉप में जो हार्ड ड्राइव HDD, साधारणत: आती है , वह है  “S-ATA हार्ड डिस्क ड्राइव” जो कि कम लागत में आती है | इसके HDD कहतें  हैं | 

इसमें स्टोरेज की तकनीक में फेरोमैग्नेटिक स्टोरेज मीडिया का इस्तेमाल किया जाता है। विशेष धातु से बनी प्लेटों का चुम्बकीयकरण (Magnetism) कर उसे डाटा रिकॉर्ड करने लायक बनाया जाता है। 

अब आ गई है एसएसडी …

सॉलिड स्टेट ड्राइव …यानि एसएसडी ..अब नए लैपटॉप इसी स्टोरेज डिस्क के साथ आ रहे हैं , इसका फायदा है की इसमें डाटा सॉलिड स्टेट में सेव होता है जिसने समय और इलेक्ट्रिसिटी दोनों की बचत होती है |  यह पूरी तरह डिजिटल है। एसएसडी और एचडीडी में सबसे बड़ा फर्क यह है कि एसएसडी के लिए मूविंग पार्ट/ मोटर का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। यह पूरी तरह डिजिटल तकनीकी पर आधारित होता है।

HHD V/s SSD

वैसे एसएसडी तकनीकी का इस्तेमाल पहले से ही एमपी3 प्लेयर और सेलफोन में किया जाता है।

 “फ्लैश स्टोरेज मीडिया, जिस पर एसएसडी आधारित है, आघात ( शॉक) के दुष्परिणामों से पूरी तरह मुक्त है। इसका मतलब यह होगा कि अगर कम्प्यूटर या लैपटॉप टेबल से नीचे भी गिर जाता है तो इसकी डिस्क पर कोई असर नहीं पड़ेगा।”

इसका मतलब यह हुआ कि अगर आप लैपटॉप को जान-बूझकर या गलती से गिरा भी भी देते हैं तो इसमें सुरक्षित डाटा को कोई नुकसान नहीं पहुंचता है जबकि मौजूदा कम्प्यूटर को अगर झटका लगता है या उसे आघात पहुंचता है तो कई बार सुरक्षित डाटा उड़ जाते हैं।

दूसरा  फायदा यह है कि एसएसडी से लैस कम्प्यूटर या लैपटॉप अधिक शोर नहीं करता और इससे कम ऊष्मा पैदा होती है। इससे ऊर्जा/ इलेक्ट्रिसिटी की बचत की जा सकती है।

सबसे बड़ा फायदा :

स्पीड की जहां तक बात है तो एसएसडी मेमोरी पर आधरित लैपटॉप हार्ड ड्राइव से लैस लैपटॉप से कई गुना अधिक तेज होता है, यदि आप भी अपने लैपटॉप को इससे अपग्रेड करते हैं तो आपको उसी पुराने लैपटॉप से एक बहुत ही तेज़ परफोर्मेंस देखने को मिलेगा |

ssdspeed

आप इसे अपने डेस्कटॉप कंप्यूटर में भी लगा सकते हैं और देखिये इसकी स्पीड और परफॉरमेंस का कमाल..

कीमत :

इसकी कीमत थोड़ी सी ज्यादा है पर इसके परफॉरमेंस आउटपुट के मुकाबले में कुछ नही ..रु.4500 – 5000 में २४० जी बी की SSD  ड्राइव आ जायेगी जो आपके ऑपरेटिंग सिस्टम को और इम्पोर्टेंट सॉफ्टवेअर्स के लिए बहुत ज्यादा है |

डाटा स्टोरेज के लिए आप अपनी सेकेंडरी ड्राईव / एक्सटर्नल ड्राइव रख सकते हैं | यह आपको काम करने में समझ में आएगा की सॉलिड स्टेट ड्राइव कितनी अच्छी परफ़ॉर्मर है |  

अपनी पुरानी ड्राइव को यूएसबी केसिंग में लगाकर उसमे अपना डाटा रखिये …

ssd4

यदि आपको इस विषय में और सलाह या सर्विसेस चाहिए तो हमसे संपर्क करें फ़ोन: 9425052029 पर ,

इसके विशेषज्ञ आपको इस प्रोडक्ट की सेल्स और सर्विसेस भी प्रोवाइड करवाएंगे | 

टीम ओह इंदौर की प्रस्तुति | www.ohindore.com | City Portal of Indore 

 

 

 

 जानिए कैसे आप  अपने लैपटॉप को अपग्रेड कर सकते हैं माइक्रोसॉफ्ट. ओरेकल, सिस्को  सर्टिफाइड आई टी एक्सपर्ट समीर शर्मा से | sameer@ds-india.com        लैपटॉप आपका पर्सनल हो या कंपनी द्वारा दिया गया , यूज़ तो आपको करना है और अगर उसके परफोर्मेंस में कोई परेशानी है तो वह आपकी परेशानी ही है |  आज आप कुछ पेरिफेरल्स (कंप्यूटर पार्ट्स) को अपग्रेड करके इससे अपने लैपटॉप को कई गुना , यकीं मानिए कई गुना तेज़ कर लेंगे  हांलांकि लैपटॉप में इस तरह के अपग्रेड ऑप्शंस बहुत सीमित हैं फिर भी कुछ बेहद इम्पोर्टेंट पार्ट्स हैं, जिनका अपग्रेड संभव है | …

User Rating: 5 ( 2 votes)
वामन हरी पेठे, इंदौर

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com
error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात