Breaking News
Home / Indore / देवल का “पक्का सोलर कुकर” लॉन्च , इंदौर में इंटरनेशनल सोलर कुकिंग के विशेषज्ञ आये …

देवल का “पक्का सोलर कुकर” लॉन्च , इंदौर में इंटरनेशनल सोलर कुकिंग के विशेषज्ञ आये …

सुबह सुबह मालवा की शांतिपूर्ण देव गुराडिया की पहाड़ियों के पीछे बसे जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवेलपमेंट, सनावादिया में बहाई पवित्र प्रार्थनाओं के साथ प्रारम्भ हुए कार्यक्रम में सौर ऊर्जा के क्षेत्र में काम कर रहे विशेषज्ञों का दल पर्यावरण की चिंता में कुछ नया कर रहा था ….मौक़ा था एक नए सोलर कुकर लॉन्च का …..जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवेलपमेंट के १३वे सोलर कुकर के लोकार्पण का …

यह है  “सेलेस्तिनो का पक्का सोलर कुकर ” 

डॉ सेलेस्टिनो , पुर्तगाल के सोलर वैज्ञानिक के कुकर को इंदौर के देवल वर्मा ने अपनी डिजाईन टेक्निक्स के साथ बनाया ग्रामें भारत में आसानी से प्रयोग में लाये जाना वाल सोलर कूकर …

 

img_0198
डॉ सेलेस्तिनो और देवल वर्मा

देवल जो जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवेलपमेंट सेंटर सनावादिया पर डॉ जनक मगिलिगन के मार्गदर्शन में इंटर्नशिप कर रहे हैं , ने बताया कि यह एक “फनल सोलर कुकर” है , इसे मूलत: डॉ सेलेस्तिनो ने डिजाईन किया है , यह सूर्य की किरणों को अलग अलग कोनो में लगे दर्पण के माध्यम से एक फोकल बिंदु  पर केन्द्रित करता है जिससे सोलर ऊर्जा , उष्मा में परिवर्तित हो कर बर्तन में रखे भोजन , पानी को पका देती है |

यह पूर्णत: जैविक और प्राकृतिक पाक विधि /रसोई का उदाहरण है | इसमें गैस, लकडी या कोयला कुच्छ भी खर्च नहीं होता  है और यह पर्यावरण के लिए अत्यंत लाभकारी है |

img_0129
डॉ जनक पलटा मगिलिगन और देवल वर्मा

 

कैसे बनाया गया पक्का सोलर कुकर ?

पहले एक मेटल मोल्ड तैयार किया गया , फिर उसमे  कॉन्क्रीट  भरकर उसे एक विशेष ज्योमेट्रीकल आकर में ढाला गया और उसके बाद उस पर विशेष आकर के शीशे / दर्पण लगाये गए हैं |

 

इस कुकर की विशेषता:

इसकी विशेषता यह है कि प्रयोग में यह बहुत आसान है और साथ ही इसका रखरखाव भी  न्यूनतम है , इसे प्रशिक्षण देकर गाँव में ही बनाया जा सकता है 

अब भविष्य में यही ऊर्जा उपलब्द्ध रहेगी और हमें पर्यावरण को नुक्सान करने से बचा सकेगी | 

 

img_0006

 

लॉन्च :

इस कुकर को लांच करते हुए देवल ने बताया की इसका निर्माण पूर्त: जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवेलपमेंट , ग्राम सनावादिया, इंदौर पर किया गया है |

MIT Institute of Design , Pune जैसे प्रतिष्ठित संस्थान के छात्र देवल वर्मा ने बताया की डिजाईन वही है , जो लोगो के काम आये, समय , ऊर्जा बचाए और पर्यावरण मित्र हो ….इस कुकर को बनाने में वरुण रहेजा, ने भी अपना बहुमूल्य योगदान दिया जो कि मेडिकैप्स कॉलेज, इंदौर  में मैकेनिकल इन्जिनीरिंग के छात्र हैं | 

राजेंद्र जी, नंदा जी और सुनील चौहान ने इसे बनाने में महती भूमिका निभाई है और यह कुकर अब अंतर्रार्ष्ट्रीय सोलर कुकिंग कांफ्रेंस जो कि  बड़ोदा में १६-१८ जनवरी को आयोजित है प्रदर्शित किया जाएगा | 

 

 

img_0189

 

इस अवसर पर सोलर कुकिंग इंटरनेशनल की डाइरेक्टर जूली ग्रीन , चार्ली ग्रीन , डॉ सेलेस्तीनो, एना वित्रीश,  श्रीमति भागवद गीता नरहरी , श्री एम् के रावत , अम्बरीश केला , समीर शर्मा (ओहइंदौर.कॉम), टाइम्स ऑफ़ इंडिया के श्री राजेश और देवल के माता- पिता भी उपस्थित थे |

 

इस अवसर पर  सोलर कुक्ड केक और बिस्किट्स भी अतिथियों को परोसे गए |

img_0010

 

सभी चित्र : समीर शर्मा 

ohindore_web_final

सुबह सुबह मालवा की शांतिपूर्ण देव गुराडिया की पहाड़ियों के पीछे बसे जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवेलपमेंट, सनावादिया में बहाई पवित्र प्रार्थनाओं के साथ प्रारम्भ हुए कार्यक्रम में सौर ऊर्जा के क्षेत्र में काम कर रहे विशेषज्ञों का दल पर्यावरण की चिंता में कुछ नया कर रहा था ....मौक़ा था एक नए सोलर कुकर लॉन्च का .....जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवेलपमेंट के १३वे सोलर कुकर के लोकार्पण का ... यह है  "सेलेस्तिनो का पक्का सोलर कुकर "  डॉ सेलेस्टिनो , पुर्तगाल के सोलर वैज्ञानिक के कुकर को इंदौर के देवल वर्मा ने अपनी डिजाईन टेक्निक्स के साथ बनाया ग्रामें…

User Rating: 4.85 ( 3 votes)
वामन हरी पेठे, इंदौर

About Sameer Sharma

Founder and Editor, www.ohindore.com

ये भी तो देखो भिया !

उद्भव – देवल वर्मा की अद्भुत मेटल आर्ट्स प्रदर्शनी

Share this on WhatsApp   देवल वर्मा – इंदौर के युवा और उभरते हुए आर्टिस्ट …

error: नी भिया कापी नी करने का ...गलत बात